संवाद सहयोगी, उत्तरकाशी : संगीत नाटक अकादमी नई दिल्ली के तत्वावधान में स्व. हरि ¨सह रावत राजकीय इंटर कॉलेज गंगोरी में लोक संस्कृति कार्यशाला स्वांग एवं पांडव नृत्य प्रचार प्रसार का आयोजन किया गया। कार्यशाला में युवा पीढ़ी को गढ़वाली लोक संस्कृति और लोक विधाओं से जोड़ने के लिए जागरूक किया गया। मंगलवार को लोकरंग, महिला विकास समिति, महिला किसान विकास समिति गंगोरी व नवयुवक मंगल दल संग्राली के सहयोग से गंगोरी में कार्यशाला का शुभारंभ हुआ। मुख्य अतिथि वयोवृद्ध लोक रंगकर्मी चंद्रमोहन भट्ट ने इसका शुभारंभ किया। कार्यक्रम में शैलेश मटियानी पुरस्कार से सम्मानित प्रधानाचार्य राजपाल पंवार के शिक्षा के प्रति समर्पण को देखते हुए लोकरंग द्वारा उत्कृष्ट शिक्षक का सम्मान प्रदान किया गया। महिला किसान विकास समिति के सदस्यों ने ढोल की थाप पर लोकभाषा में बाड़ाहाट के आराध्यदेव कंडार देवता की स्तुति का गान किया। इस मौके पर समिति महिलाओं ने रासौं नृत्य की प्रस्तुतियां दी।

कार्यशाला में बाड़ाहाट की खत्म होती पांडव नृत्य की स्वांग नृत्य विधा का प्रस्तुतीकरण किया गया। व्याख्यान सत्र में प्रसिद्ध लोकगायक एवं साहित्यकार ओम बधानी ने पांडव नृत्य के विभिन्न पहलुओं एवं गढ़लोक समाज में इसकी मौजूदगी के बारे में बच्चों व महिलाओं को विस्तारपूर्वक जानकारी दी। लोक रंगकर्मी जगेंद्र शाह ने पांडव नृत्य में शामिल ऐडी स्वांग, घोड़ी स्वांग सहित अन्य स्वांग विधाओं में प्रयुक्त सामग्री व ऐडी तैयार करने की प्रक्रिया के बारे में विस्तार सहित बच्चों व महिलाओं को समझाया।

इस मौके पर महिला किसान विकास समिति की अध्यक्ष पवना सेमवाल, राधिका, सर्वेश्वर नौटियाल, अर¨वद रावत, सुरेंद्र पुरी, राजेन्द्र सेमवाल, संदीप सेमवाल, उद्वव, राजेश अश्क, मंगल ¨सह आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran