उत्तरकाशी, जेएनएन। श्री गंगोत्री मंदिर समिति के तीर्थपुरोहित और हक हकूकधारियों की ओर से रामलीला मैदान से निकाली गई महारैली को नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने भी समर्थन दिया। इस दौरान रैली को संबोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश ने कहा कि कांग्रेस चारधामों के तीर्थपुरोहितों और हक हकूकधारियों के साथ है। यदि 2022 के चुनाव में कांग्रेस की सरकार आएगी, तो यह कानून खत्म कर दिया जाएगा।

चारों धामों में देवस्थानम प्रबंधन विधेयक पारित करने के विरोध में बीते सात दिसंबर से श्री गंगोत्री मंदिर समिति के तीर्थपुरोहित और हक हकूकधारी धरने पर बैठे हैं। बुधवार को विरोधस्वरूप महारैली निकाली गई। इस दौरान इंदिरा ह्रïदयेश ने सरकार को आड़े हाथों लिया। कहा कि प्रदेश सरकार ने चारधामों के तीर्थपुरोहितों को भरोसे में नहीं लिया और न ही उन्हें इसकी जानकारी दी। कहा कि विधेयक के चलते तीर्थपुरोहितों के हक-हकूक छीन जाएंगे और 20 हजार परिवार भूखमरी की कगार पर आ जाएंगे। कांग्रेस ने भाजपा सरकार से इस विधेयक को पारित करने में समय लेने की मांग की थी, लेकिन मुख्यमंत्री ने किसी की नहीं सुनी।

वहीं कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि उत्तरकाशी में जितनी आपदाएं आई हैं, कांग्रेस सरकार ने उसे संवारा है। कहा कि सिंगल सरकार ने जिले का विकास किया, लेकिन भाजपा की डबल इंजन सरकार ने विनाश कर दिया। उन्होंने श्राइन बोर्ड का नाम बदलकर देवस्थानम कर दिया और सोचा कि विरोध बंद हो जाएगा, लेकिन, कोई इनके झांसे में आने वाला नहीं है।

यह भी पढ़ें: महंगाई को लेकर मोदी सरकार के खिलाफ का प्रदर्शन, लगाए कई आरोप

इस मौके पर केदारनाथ विधायक मनोज रावत, गंगोत्री पूर्व विधायक विजयपाल सजवाण, नगरपालिका बाड़ाहाट अध्यक्ष रमेश सेमवाल, बड़कोट पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष अतोल सिंह रावत, संजू डोभाल, विष्णुपाल रावत, राजेश सेमवाल, रजनीकांत सेमवाल, चंद्रप्रभा गौड़ आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में संगठन बनाने में जुटी निषाद पार्टी, चैतन्य यादव को सौंपी कमान

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस