जागरण संवाददाता, उत्तरकाशी : त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव का परिणाम घोषित हो चुका है। जिले के 508 ग्राम पंचायतों में से 504 ग्राम पंचायतों में नए मुखिया के बनने का जश्न चल रहा है, लेकिन चार ग्राम पंचायतों को अभी भी अपने मुखिया का इंतजार है। जबकि पुरोला के एक क्षेत्र पंचायत वार्ड को क्षेत्र पंचायत सदस्य का इंतजार है।

जनपद के इन गांवों में शामिल चिन्यालीसौड़ ब्लॉक के नेरी गांव में प्रधान प्रत्याशी का नामांकन जांच के दौरान रद हुआ। संबंधित प्रत्याशी प्रधान पद के सापेक्ष शैक्षिक औपचारिकता पूरी नहीं कर पाई। नेरी गांव में प्रधान का पद अनुसूचित जाति महिला वर्ग के लिए आरक्षित था, लेकिन गांव में इस वर्ग से कोई भी महिला प्रधान पद की योग्यता को पूरी नहीं कर पा रही हैं। इसी तरह डुंडा ब्लॉक के नगल गांव में प्रधान का पद अनुसूचित जाति महिला के लिए आरक्षित था। गांव में मौजूद एक महिला ने आवेदन किया। जांच के दौरान शैक्षिक योग्यता की औपचारिकता पूरी न होने पर नामांकन रद हुआ। जबकि मोरी ब्लाक का पोखरी गांव में भी अनुसूचित जाति महिला के लिए प्रधान पद आरक्षित था। पोखरी गांव में एक ही परिवार अनुसूचित जाति का है। इस वर्ग में जो महिलाएं 21 वर्ष से अधिक की हैं वे अशिक्षित हैं। जबकि इस परिवार में एक युवती 20 वर्ष की हैं जो 12वीं पास है। उम्र कम होने के कारण इस युवती ने नामांकन ही नहीं किया। ठीक इसी तरह से नौगांव ब्लाक का फुवाणगांव में प्रधान पद के लिए सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित थी, लेकिन इस गांव जो अनुसूचित जाति के परिवार थे उनमें कोई भी व्यक्ति प्रधान पद की शैक्षिक योग्यता पूरी नहीं कर सका। इस कारण किसी ने भी प्रधान के लिए आवेदन नहीं किया। प्रधानों के अलावा पुरोला ब्लॉक में करड़ा क्षेत्र पंचायत वार्ड में निर्विरोध क्षेत्र पंचायत सदस्य के लिए एक ही व्यक्ति ने आवेदन किया था, लेकिन दो से अधिक बच्चों के नियम के चलते दावेदार का नामांकन रद्द हुआ।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप