उत्तरकाशी, जेएनएन। बैसाखी पर्व पर उत्तरकाशी के प्रसिद्ध काशी विश्वनाथ मंदिर में रूस की एलेना और प्रभात बिष्ट परिणय सूत्र में बंध गए। उनका विवाह पहाड़ी रीति-रिवाजों के अनुसार संपन्न हुआ। सात फेरे लेने के बाद नवदंपती ने बाबा विश्वनाथ का आशीर्वाद भी लिया।

रविवार को रूस की एलेना व ज्ञानसू (उत्तरकाशी) निवासी प्रभात बिष्ट का विवाह संपन्न हुआ। शादी समारोह में प्रभात के परिजनों के साथ ही एलेना की मां वीरा वेलचावर, पिता एवजिनी वेलचावर व उसकी दोस्त ऐरिना एल्टीमोनिको समेत लगभग 50 लोग मौजूद थे।

दूल्हे के नाना बुद्धि सिंह कुमाईं ने बताया कि प्रभात की मुलाकात वर्ष 2016 में एलेना से हुई थी। तब दोनों दुबई के एक होटल में काम किया करते थे। इसी दौरान दोनों के बीच प्यार परवान चढ़ा। शादी से पहले एलेना भारतीय संस्कृति को जानने के लिए दो बार भारत आईं। यहां उसे भारतीय संस्कृति और यहां के रीति-रिवाज पसंद आए।

इसके बाद उसने सनातनी परंपरा के अनुसार ही शादी करने का फैसला कर लिया। बीती 12 अप्रैल को एलेना अपने माता-पिता और एक दोस्त के साथ उत्तरकाशी पहुंची। यहां शनिवार को दोनों परिवारों ने अलग-अलग स्थानों पर मेहंदी की रस्म अदा की। 

यह भी पढ़ें: दस मई को तुंगनाथ और 21 मई को खुलेंगे मध्यमेश्वर के कपाट

यह भी पढ़ें: चुनावी शोर में गुम हो गई बर्फानी बाबा की यात्रा, भक्तों का इंतजार

यह भी पढ़ें: भारी बर्फबारी से इस बार केदारनाथ में ध्वस्त हो चुकी हैं व्यवस्थाएं

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप