जागरण संवाददाता, रुद्रपुर : जो सत्यापन में पास होगा। वहीं चालक क्षेत्र में ई रिक्शा चला पाएगा। ई रिक्शा चलाने की आड़ में शरण लेने वाले बाहरी क्षेत्र के बदमाश चिह्नित किए जाएंगे। ऐसे लोगों को ऊधमसिंह नगर में नहीं पनपने दिया जाएगा। इसके लिए पुलिस को समय दे दिया गया है। इसके आधार पर पुलिस चालकों का सत्यापन करने में जुट गई है।

क्षेत्र में ई रिक्शा की बाढ़ सी आ गई है। शहर व गांवों की सड़कों पर काफी संख्या में ई रिक्शा दिखते हैं। पुलिस को ई-रिक्शा चलाने के नाम पर उत्तर प्रदेश सहित अन्य प्रदेशों के बदमाशों के ऊधम सिंह नगर में शरण लेने की इनपुट पुलिस को मिली है। पता चला है कि शरण लेने वाले बदमाश रेकी कर सूचनाएं उत्तर प्रदेश में देते हैं, जिसके आधार पर आपराधिक घटनाओं को अंजाम देकर आसानी से निकल जाते हैं। पुलिस ने चालकों का सत्यापन शुरू कर दिया है। दो दिन में सीओ व थाना प्रभारी ई-रिक्शा चालकों का सत्यापन कार्य पूरा कर रिपोर्ट एसएसपी को देंगे। रिपोर्ट में प्रमाण पत्र पाने वाला व्यक्ति ही ई-रिक्शा का संचालन कर सकेगा।

----------------

संदिग्धों की गतिविधियों पर नजर रखेगी पुलिस

पुलिस ने 2041 बाहरी व 1885 स्थानीय संदिग्ध चिन्हित किए हैं। उनकी अलग से फाइल खोलने के साथ ही पुलिस को उनकी हर गतिविधियों पर नजर रखने के निर्देश दिए है। इनमें कुछ ऐसे भी है। जिनका पुलिस रिकार्ड में नाम नहीं है, लेकिन उनकी गतिविधियां हमेशा से ही शक के दायरे में रही है। थाना प्रभारियों द्वारा ऐसे चिह्नित किए गए लोगों पर एक दिन छोड़ कर उनके घर जाकर उनके बारे में पता करने के साथ उनकी लोकेशन ट्रेस कर सूचित करने की कार्रवाई शुरू की गई है।

====================

ई-रिक्शा चालकों के रूप में बाहरी लोगों के यहां शरण लेकर रेकी करने व अपनी पहचान छिपा कर बाहरी प्रदेशों की पुलिस से बचने के प्रयास की जानकारी मिली है। सीओ व थाना प्रभारियों को निर्देश दिए गए है कि वह दो दिन में चालकों का सत्यापन करें।

- दिलीप सिंह कुंवर, एसएसपी

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस