जागरण संवाददाता, रुद्रपुर : बाघ एक्सप्रेस में बिना लाइसेंस खाद्य सामग्री बेचना दो युवकों को महंगा पड़ गया। आरपीएफ ने चे¨कग के दौरान दोनों को पकड़ मुकदमा दर्ज कर लिया। बाद में दोनों को निजी मुचलके पर छोड़ दिया गया। आरपीएफ प्रभारी ने बताया कि सोमवार को दोनों रेलवे कोर्ट बरेली में पेश होंगे।

शनिवार को आरपीएफ प्रभारी आरके भारद्वाज के नेतृत्व में आरपीएफ की टीम बाघ एक्सप्रेस में चे¨कग कर रही थी। इस दौरान दो युवक यात्रियों को खाद्य सामग्री बेचते मिले। दोनों युवक आरपीएफ को ट्रेन में खाद्य सामग्री बेचने का लाइसेंस नहीं दिखा पाए। इस पर हिरासत में ले आरपीएफ दोनों को रुद्रपुर रेलवे स्टेशन स्थित चौकी में ले आई। वहां पूछताछ में उन्होंने अपना नाम बदांयू निवासी शिवकृष्ण और रामपुर निवासी वाजिद बताया। बाद में आरपीएफ ने दोनों के खिलाफ बिना लाइसेंस के अवैध रूप से खाद्य सामग्री बेचने का केस दर्ज कर लिया। आरपीएफ प्रभारी आरके भारद्वाज ने बताया कि बाद में दोनों को निजी मुचलके पर छोड़ दिया गया। सोमवार को दोनों बरेली स्थित रेलवे कोर्ट में पेश होंगे। इंसेट-

रेलवे ट्रैक पर की गश्त

ट्रेनों में पथराव की घटनाओं को देखते आरपीएफ ने रविवार को भी रुद्रपुर से बिलासपुर तक गश्त की। रेलवे ट्रैक के किनारे मिले संदिग्धों को भी खदेड़ा। आरपीएफ प्रभारी आरके भारद्वाज ने बताया कि गश्त के दौरान उप्र और रुद्रपुर के ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को ट्रेनों में पथराव न करने की अपील कर जागरूक किया गया। बताया कि पथराव करते पकड़ जाने पर आजीवन कारावास या फिर भारी जुर्माने की कार्रवाई हो सकती है।

Posted By: Jagran