जागरण संवाददाता, किच्छा : सहकारी क्रय विक्रय समिति के डायरेक्टर पद पर चुकटी में भी चुनाव की नौबत नहीं आई। दो प्रत्याशियों द्वारा अपना नामांकन वापस लेने के बाद चुकटी में भी निर्विरोध डायरेक्टर चुने जाने का रास्ता साफ हो गया। सात पदों पर पहले ही एक नामांकन के बाद चुनाव की नौबत नहीं आई थी। चुने गए डायरेक्टरों को 12 सितंबर को प्रमाण पत्र वितरित करने की रस्म अदायगी भर अब रह गई है। चुने गए डायरेक्टरों द्वारा 13 सितंबर को अध्यक्ष का चुनाव किया जाएगा है।

सहकारी क्रय विक्रय समिति में डायरेक्टर के आठ पदों पर नामांकन वापसी के साथ ही निर्विरोध चुनाव की प्रक्रिया संपन्न हुई। रविवार को वार्ड नंबर दो नारायणपुर से हरवंश पुत्र जंगली, वार्ड नंबर तीन पूर्वी किच्छा सहकारी समिति के दो पदों पर रामचंद्र पुत्र मोती राम, मदन लाल पुत्र रामाधर, वार्ड नंबर चार शांतिपुरी के दो पदों पर भुवन चंद्र पुत्र शंकर दत्त, सावित्री देवी पत्नी हुकुम ¨सह, वार्ड नंबर पांच चुकटी देवरिया से एक पद के लिए सोमवती पत्नी लालता प्रसाद, नीमा बिष्ट पत्नी सुभाशीष, अल्पना पत्नी शिव कुमार, वार्ड नंबर छह शहदौरा मंजीत कौर पत्नी सर्वजीत ¨सह, वार्ड नंबर सात जवाहर नगर से श्याम ¨सह पुत्र गंगा ¨सह द्वारा नामांकन किया गया था। चुकटी सीट पर तीन लोगों के नामांकन के बाद चुनाव की स्थिति बन रही थी। नामांकन के बाद से ही आपसी सहमति के प्रयास शुरू कर दिए गए थे। तीर निशाने पर लगा और सोमवार को सोमवती पत्नी लालता प्रसाद व अल्पना पत्नी शिव कुमार के नाम सहमति के बाद वापस ले लिए। जिसके बाद नीमा बिष्ट पत्नी सुभाशीष अकेले ही चुनाव मैदान में रह गई। जिसके चलते उनको भी निर्विरोध चुना जाना तय हो गया। 12 सितंबर को चुनाव की प्रक्रिया के उपरांत उनको प्रमाण पत्र जारी करने की रस्म अदायगी मात्र रह गई है।

Posted By: Jagran