जागरण संवाददाता, रुद्रपुर : दो हत्या के बाद आत्महत्या करने के लिए एक के बाद एक तीन गोलियां पिस्टल से चली, लेकिन पड़ोस में धूप सेंक रहे लोगों को इसकी आवाज तक नहीं सुनाई दी। ऐसे में साइलेंसर लगाकर या फिर किसी कपड़े की आड़ में गोली चलाने की आशंका जताई जा रही है। हालांकि पुलिस अधिकारियों का कहना है कि मौके पर न तो साइलेंसर मिला और न ही कोई कपड़ा।

गुरुवार सुबह 11 से 12 बजे के बीच डिबडिबा के सुभाष नगर कालोनी में लोग घरों की छत और बाहर बैठकर धूप सेंक रहे थे। इसी बीच वहां उक्त वारदात हुई। अचरज की बात है कि एक-एक कर चलीं तीन गोलियों की आवाज आसपास के घरों की छतों और बाहर बैठे लोगों को नहीं सुनाई दी। जब प्रदीप के भाई दौड़े-दौड़े घर पहुंचे, तब पड़ोसियों को अनहोनी की आशंका हुई। इस पर वे प्रदीप के घर पहुंचे तो घटना का पता चला। जब पुलिस पहुंची तो पड़ोसियों से जानकारी ली। इस दौरान पड़ोसियों ने गोली की आवाज सुनने से इन्कार किया। पड़ोसियों ने बताया कि वे घर के बाहर बैठे हुए थे, लेकिन गोली की कोई आवाज नहीं सुनीं। लोगों का कहना था कि साइलेंसर या फिर कपड़ा लगाकर गोली चलाई गई होगी। वहीं, कोतवाल बिलासपुर माधो सिंह बिष्ट ने बताया कि मौके पर पिस्टल और मैंगनीज मिली है। साइलेंसर या कोई ऐसा कपड़ा, जिसमें छेद हुआ हो, पुलिस को नहीं मिला है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस