संवाद सहयोगी, बाजपुर : गुरुवार को कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य ने मिल का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान पेराई सत्र को लेकर की गई तैयारियों के संबंध में जानकारी ली और 15 नवंबर तक पेराई सत्र प्रारंभ करवाने के निर्देश प्रधान प्रबंधक को दिए।

निरीक्षण के दौरान कर्मचारियों ने प्रधान प्रबंधक पर आरोप लगाते हुए कहा कि मिल प्रशासन की ओर से समय पर श्रमिकों का प्रोविडेंट फंड जमा नहीं कराया गया। इसके चलते मिल को एक करोड़ चार लाख का अर्थदंड झेलना पड़ा है। वहीं श्रमिकों के देयकों के लिए बजट नहीं होने की बात कही गई, जबकि फेडरेशन के लोगों का पैसा समय पूर्व ही भुगतान कर दिया गया। इस दौरान सातों यूनियनों द्वारा फिटमेंट, मृतक एवजी, एरियर भुगतान करवाए जाने की मांग पर आर्य ने कहा कि वह इस संबंध में शासन स्तर पर बात कर श्रमिकों की समस्याओं का निदान करवाएंगे। वहीं, श्रमिक नेता वीरेंद्र सिंह द्वारा बैगास क्रय में घोटाला होने की बात कहते हुए जांच करवाए जाने की मांग की। साथ ही यूनियन नेताओं ने तीन वर्ष का स्पेशल ऑडिट करवाए जाने का मुद्दा भी जोर-शोर से उठाया। इस मौके पर पूर्व दर्जा राज्यमंत्री हरेंद्र सिंह लाडी, उपेंद्र चौधरी, विशेष चंद्र शर्मा, रामऔैतार, मांगेराम, करम सिंह, कमल, जोर सिंह, शकील, सलीम, यशपाल सिंह, नरेश, रामनरेश आदि मौजूद थे।

..............

नवंबर के प्रथम सप्ताह में चलाई जाएं चीनी मिलें : केके शर्मा

संस, बाजपुर : राष्ट्रीय सीमांत किसान यूनियन के अध्यक्ष केके शर्मा द्वारा चीनी मिल प्रधान प्रबंधक को 13 सूत्रीय मांग पत्र सौंपा। ज्ञापन देकर नवंबर के प्रथम सप्ताह में पेराई सत्र शुरू करने, मिल से निकलने वाली प्रेसमड किसानों को दिए जाने, गन्ना तौल में किसी भी प्रकरण की धांधाली न हो ऐसी व्यवस्था पूर्व से किए जाने सहित 13 सूत्रीय मांगों को जोरशोर से उठाया गया है। इस मौके पर यूनियन के प्रांतीय अध्यक्ष अवतार सिंह, मो.जान, यशपाल सिंह, सुरेंद्र शर्मा, जाहिद हुसैन, फौजा सिंह आदि मौजूद थे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021