जागरण संवाददाता, किच्छा : भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने कहा जनप्रतिनिधि मर्यादित भाषा का प्रयोग करें। उनको संयम खोने की जरूरत नहीं है। संयम में रहते हुए जनता के कार्यों को अंजाम तक पहुंचाने का काम करें। रुद्रपुर सीपीयू महिला दारोगा अभद्रता प्रकरण में उन्होंने माना कि भाषा अमर्यादित थी, लेकिन उसके पीछे के कारण के चलते उन्होंने उसे जायज भी ठहराने का प्रयास किया।

पंत जयंती के कार्यक्रम में किच्छा पहुंचे भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट सीपीयू महिला दारोगा के साथ हुई अभद्रता प्रकरण के बारे में पूछे जाने पर खुल कर बोलने से कतराते रहे। इस दौरान उन्होंने विधायक राजकुमार ठुकराल के पक्ष को ही रखते हुए कहा विधायक ने अपने कर्तव्यों का पालन किया है। सीपीयू कर्मियों द्वारा दंपती को सड़क पर लिटा लिटा कर पीटा जिसके परिणाम स्वरूप विधायक ठुकराल को जनप्रतिनिधि के नाते उनकी आवाज उठाने के लिए आना पड़ा। इस संबंध में उनसे जब सोशल मीडिया के हावी होने के साथ ही हर हाथ में मोबाइल होने पर सीपीयू की हरकत को किसी के द्वारा अपने मोबाइल में कैद करने के साथ ही सीपीयू के कैमरों की जांच की बात कही तो उनका जवाब था सीपीयू ने दंपती के खिलाफ की कार्रवाई की रिकाíडंग हटाने की बात कही। साथ ही यह भी कहा एसएसपी ने जांच के आदेश दिए है जांच के बाद सब सामने आ जाएगा, लेकिन रुद्रपुर विधायक के लगातार विवादों में बने रहने के कारणों और भाजपा के अनुशासन के बारे में पूछा तो वह छोटी बात को तूल न देने की बात कहते हुए चल दिए।

Posted By: Jagran