जागरण संवाददाता, रुद्रपुर : टीडीसी गेहूं बीज घोटाले में नामजद पूर्व प्रबंधक निदेशक के खिलाफ पंत विवि के बोर्ड ऑफ मैनेजमेंट ने अभियोजन चलाने की अनुमति दे दी है। अभियोजन चलाने की स्वीकृति मिलने के बाद अब एसआइटी टीडीसी के पूर्व प्रबंधक निदेशक पीएस बिष्ट समेत तीन आरोपितों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करेगी। बोर्ड के सदस्य और किच्छा विधायक राजेश शुक्ला ने बताया कि 28 नवंबर को हुए बोर्ड की बैठक में अभियोजन अनुमति दी गई।

बता दें कि हल्दी-पंतनगर स्थित टीडीसी में 16 करोड़ का घोटाला सामने आने के बाद पंतनगर थाने में जुलाई 2017 को दस लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। इस पर मामले की जांच एसपी सिटी देवेंद्र ¨पचा के नेतृत्व में गठित एसआइटी को सौंप दी गई थी। जांच के दौरान एसआइटी कार्रवाई को देखते हुए नौ नामजद आरोपितों ने उच्च न्यायालय से स्टे ले लिया था। जांच में मिले साक्ष्यों के आधार पर एसआइटी ने छदन्नी लाल, हरिकेश बहादुर और ललित मोहन ¨सह के साथ ही नामजद टीडीसी के मुख्य अभियंता, समन्वयक मार्के¨टग पीके चौहान, उप मुख्य विपणन अधिकारी अजीत ¨सह व लेखाकार जीसी तिवारी को न्यायालय से मिला स्टे खारिज कर जेल भेज दिया था। साथ ही तीन नामजद आरोपित टीडीसी के पूर्व प्रबंधक निदेशक पीएस बिष्ट, आरके निगम और एके लोहनी के खिलाफ अभियोजन अनुमति के लिए आवेदन किया था। आवेदन के बाद एके लोहनी और आरके निगम के खिलाफ एसआइटी को अभियोजन अनुमति मिल गई थी। जबकि पीएस बिष्ट के अभियोजन आदेश का एसआइटी को इंतजार है। इधर, किच्छा विधायक और पंत विवि के बोर्ड ऑफ मैनेजमेंट के सदस्य राजेश शुक्ला ने बताया कि एसआइटी की रिपोर्ट के आधार पर बोर्ड की बैठक में पूर्व टीडीसी के प्रबंध निदेशक और वर्तमान में पंत विवि में तैनात पीएस बिष्ट के खिलाफ अभियोजन चलाने की अनुमति दे दी गई है। वर्जन::::

टीडीसी के पूर्व प्रबंधक निदेशक के खिलाफ अभियोजन चलाने के लिए पंत विवि से अनुमति मांगी थी। अनुमति मिलती ही प्रबंधक निदेशक समेत तीनों आरोपितों के खिलाफ फाइनल चार्जशीट दाखिल कर दी जाएगी।

-देवेंद्र ¨पचा, एसपी सिटी, रुद्रपुर

Posted By: Jagran