जागरण संवाददाता,रुद्रपुर : कई दिनों से वैक्सीन की डोज पर्याप्त संख्या में नहीं मिल पाने से सेंटर्स में सन्नाटा नजर आ रहा था। बुधवार रात 50 हजार डोज मिलने के बाद सुबह टीकाकरण शुरू हो गया।

रुद्रपुर में मेडिकल कालेज सहित सितारगंज, बाजपुर, गदरपुर, किच्छा सहित दूसरे ब्लाकों में भी यही स्थिति रही। लोग सुबह से ही पंजीकरण के लिए लंबी लाइनों में लगे नजर आए। ऐसे में मेडिकल कालेज पंजीकरण काउंटर पर कोविन एप पर नाम दर्ज कर रहे कर्मचारियों की संख्या बढ़ानी पड़ी। दोपहर दो बजे तक भी यही हाल रहने से कई बार हंगामे की स्थिति रही।

नोडल प्रभारी एसीएमओ डा. हरेंद्र मलिक ने बताया कि 18 से 44 वर्ष के लोगों के लिए 32 से अधिक वैक्सीनेशन सेंटर बनाए गए हैं। 44 वर्ष से ऊपर के लोगों के लिए आठ सेंटर्स हैं। करीब 20 दिनों से पहली डोज नहीं मिलने से लोग निराश होकर सेंटर्स से लौट रहे थे। दूसरी डोज के लिए सिर्फ 44 से ऊपर के लोगों पर खास ध्यान दिया जा रहा था। देहरादून से बीती रात 50 हजार की बंपर डोज मिल जोन के बाद पहली डोज के लिए भी वैक्सीनेशन किए जाने की सूचना के बाद लोगों की भीड़ सुबह होते ही रुद्रपुर से लेकर खटीमा, सितारगंज, किच्छा, बाजपुर व गदरपुर सेंटर्स पर लगी नजर आई। लाइन में लगे लोगों ने पंजीकरण में सुस्ती को लेकर भी कई बार हंगामा किया।

रुद्रपुर मेडिकल कालेज में एएनएम दीपा जोशी ने बताया कि पंजीकरण काउंटर पर दो अतिरिक्त कंप्यूटर डाटा फीडिग स्टाफ लगाया गया। तब जाकर भीड़ को नियंत्रित किया जा सका।

-------------

कम से कम पांच लाख डोज की आवश्यकता जिले को है। तब जाकर स्थिति बेहतर होगी। काफी दिनों से पहली डोज के लिए टीकाकरण नहीं हो हो पा रहा था। 50 हजार डोज में ही कुछ दूसरी डोज के लिए भी निकाली गई हैं ताकि वैक्सीनेशन प्रभावित न होने पाए।

-डा. हरेंद्र मलिक, एसीएमओ नोडल अधिकारी वैक्सीनेशन

Edited By: Jagran