जागरण संवाददाता, काशीपुर : गिरीताल रोड स्थित भूमिका इंटरप्राइजेज में 18 अक्टूबर को दिनदहाड़े हुई पिकी रावत की हत्या से पूरा शहर सहमा हुआ है। चार दिन बाद भी पिकी के हत्यारों का कोई सुराग हाथ नहीं लगा है। महिला आयोग की सदस्य मृतका की बुआ और पिता के साथ कोतवाल से मिलीं और हत्याकांड की जांच के बारे में जानकारी ली।

गिरीताल रोड स्थित वहीं के निवासी मनीष कुमार चावला पुत्र स्व. मूलचंद चावला की भूमिका इंटरप्राइजेज के नाम से ओप्पो मोबाइल डिस्ट्रीब्यूशन की दुकान है। दिगोलीखाल, धूमाकोट, पौड़ी गढ़वाल निवासी पिकी रावत पुत्री मनोज रावत दुकान पर काम कर रही थीं। 18 अक्टूबर को दिनदहाड़े करीब एक बजे दुकान में चाकूओं से गोदकर पिकी की हत्या कर दी गई। मामले का खुलासा न होने पर मंगलवार को महिला आयोग की सदस्य आशा बिष्ट मृतका पिकी के पिता मनोज, बुआ आशा रावत के साथ कोतवाल चंद्रमोहन सिंह रावत से मिलीं। इस दौरान उन्होंने कोतवाल रावत से मामले की जानकारी ली। कोतवाल ने कहा कि पुलिस को कुछ अहम सुराग हाथ लगे हैं। जल्द ही मामले का खुलासा कर दिया जाएगा। इसको लेकर महिला आयोग की सदस्य बिष्ट ने कहा कि पुलिस यदि चार-पांच दिन में हत्यारे को नहीं पकड़ पाती है तो वह महिलाओं को साथ लेकर कोतवाली का घेराव करेंगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप