संवाद सूत्र, जसपुर : हजरत इब्राहीम अलैहिस्सलाम की सुन्नत अदा करने के लिए आज मुस्लिम समुदाय अपने पशुओं की कुर्बानी पेश करेंगे। इससे पहले ईदगाह समेत नगर की विभिन्न मस्जिदों में बकरीद की नमाज अदा की जाएगी।

रविवार को उलेमाओं ने कुर्बानी के दस्तूर एवं तौर-तरीकों से वाकिफ कराया। मौलाना असीरुद्दीन ने बताया कि जानवरों की कुर्बानी का गोश्त एवं खून का कोई मतलब नहीं, इंसान के अंदर का वो जच्बा है जो, उसे खुदा के लिए सब कुछ कुर्बान करने की अकीदत देता है। छोटे जानवर पर एक एवं बड़े पर सात हिस्से वाजिब हैं। कुर्बानी के जानवर के हर बाल के बदले खुदा नेकियां देता है। उधर, एसडीएम सुंदर सिंह तोमर ने कुर्बानी के दौरान पर्दे का इंतजाम, साफ-सफाई व पशुओं के अवशेष सड़कों एवं नालियों में न फेंकने की अपील की।

इनसेट-

ईदगाह में नमाज का वक्त तय

शहर की ईदगाह एवं मस्जिदों में ईद-उल-अजहा की नमाज का वक्त तय हो गया है। सोमवार को सबसे पहले सुबह छह बजे मस्जिद फैजाने रमजान में ईद की नमाज होगी। सुबह साढ़े छह बजे मदीना मस्जिद, आठ बजे जामा मस्जिद व अबुबकर, नौ बजे ईदगाह व तकिया वाली मस्जिद में नमाज अदा की जाएगी। शहर इमाम मौलाना अमीर हमजा ने बताया कि ईदगाह से लेकर मस्जिदों में ईद की नमाज अदा करने की तैयारियां मुकम्मल हो चुकी हैं। नमाज अदा करने के बाद कुरबानी की रस्म अदा की जाएगी।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप