जागरण संवाददाता, रुद्रपुर: उत्तराखंड राज्य आंदोलन के समय बर्बरता करने वाले अपराधी खुलेआम घूम रहे हैं। ऐसे में उन्हें सजा दिलाने का काम सरकार को करने की जरूरत है। यह बातें राज्य निर्माण आंदोलनकारी परिषद के सम्मेलन में मेयर रामपाल सिंह ने कही।

उत्तराखंड राज्य निर्माण आंदोलनकारी परिषद का प्रदेश सम्मेलन जिला मुख्यालय के नगर निगम सभागार में हुआ। परिषद के केंद्रीय अध्यक्ष अवतार सिंह बिष्ट ने कहा कि मुजफ्फरनगर में आंदोलन के दोषी आज भी सरकारी नौकरी कर रहे हैं, जबकि उन्हें सजा दिलाने के लिए प्रयास करने की जरूरत है। मुख्य अतिथि वन निगम के अध्यक्ष सुरेश परिहार के सामने उन्होंने अपनी मांगें रखते हुए कहा कि आंदोलनकारियों को एक समान पेंशन दी जाए। राज्य आंदोलनकारी की मृत्यु के बाद यह पेंशन उनके आश्रितों को मिलनी चाहिए। सरकार आंदोलनकारी के पहचान पत्र के साथ ही उन्हें एक प्रमाण पत्र प्रदान करे और विभिन्न सरकारों में जारी किए गए शासनादेश को विधानसभा में पारित किया जाए। राज्य मंत्री सुरेश परिहार ने कहा कि आंदोलनकारियों की सभी मांगे वह सरकार के समक्ष रखेंगे।

---इनसेट---

उत्तराखंड रत्न अवार्ड

रुद्रपुर: राज्य निर्माण आंदोलनकारी परिषद ने विभिन्न क्षेत्रों में अच्छा कार्य करने वाले लोगों को स्व. इंद्रमणि बड़ौनी की याद में उत्तराखंड रत्न अवार्ड से भी सम्मानित किया। जिसमें टाटा स्टील हेड बिहारी लाल, जिदगी जिदाबाद के करमजीत सिंह चन्ना, अरुण चुघ, प्रियंका सचदेवा, दिनेश चंद्रा, संजय अरोरा, सुमित सक्सेना, राकेश सिंह, गिरीश, नीलम कांडपाल, संजय ढौंडियाल आदि सम्मानित किए गए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस