जासं, किच्छा : लालकुआं से बरेली जा रही पैसेंजर ट्रेन की चपेट में आ जाने से तीन वर्षीय बच्ची की मौत हो गई। बच्ची के चपेट में आने के बाद ट्रेन कुछ देर तक वहीं खड़ी रही। उसके बाद जीआरपी द्वारा शव बच्ची के परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया।

लक्ष्मी (तीन) पुत्री जितेंद्र निवासी काली मंदिर के पास बनी झोपड़ी के पास ही खेल रही थी। पटरी के कुछ ही दूरी पर झोपड़ी बनी है जिसमें जितेंद्र का परिवार रहता है। मंगलवार दोपहर लगभग तीन बजे लक्ष्मी न जाने कैसे सरकते हुए पटरी तक पहुंच गई। किसी की भी नजर बच्ची पर नहीं पड़ी। इसी दौरान लालकुआं से बरेली जा रही पैसेंजर ट्रेन के आ जाने से लक्ष्मी उस ट्रेन की चपेट में आ गई। बच्ची को देख चालक ने ट्रेन रोकने का भी प्रयास किया। लेकिन ट्रेन जब तक रुकती लक्ष्मी ट्रेन की चपेट में आ चुकी थी। लक्ष्मी की मौत पर पास ही काम कर रहे परिजनों के होश उड़ गए। इस दौरान जीआरपी कर्मियों ने बच्ची का मामला होने पर शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया।

Posted By: Jagran