संवाद सहयोगी, खटीमा: सीमांत के गन्ना किसान सितारगंज चीनी मिल के न चलने से परेशान हैं। खेतों में फसल तैयार खड़ी है और चीनी मिल के चलने के आसार दूर-दूर तक किसानों को नहीं दिख रहे हैं। जिससे किसानों को अपनी फसल की बिक्री को लेकर चिंता सताने लगी है। किसानों ने विधायक पुष्कर सिंह धामी से समस्या का समाधान करने की मांग की।

किसान नेता प्रकाश तिवारी ने किसानों के साथ बैठक की। जिसमें गन्ना किसानों ने कहा कि खटीमा व सितारगंज में लगभग एक हजार गन्ना समिति के सदस्य हैं। इस क्षेत्र में पहले 75 प्रतिशत गन्ना बोया जाता था, लेकिन मझोला चीनी मिल बंद होने से गन्ने का क्षेत्रफल घट गया। जिसके बाद सितारगंज चीनी मिल भी बंद कर दी गई। किसानों ने कहा कि जल्द सितारगंज चीनी मिल चालू की जाए। जिससे किसान अपनी उपज चीनी मिल को दे सकें। किसानों ने गन्ना मंत्री प्रकाश को संबोधित ज्ञापन विधायक धामी को सौंपा। जिसमें किसानों ने कहा कि यदि किसी कारण सितारगंज चीनी मिल चलाने में सरकार सक्षम नहीं है तो किच्छा चीनी मिल का नवीनीकरण कर तथा उसकी पेराई क्षमता बढ़ाकर एक लाख क्विंटल की जाए। जिससे खटीमा, सितारगंज, किच्छा, हल्द्वानी, चोरगलिया, गदरपुर आदि क्षेत्रों के किसानों का गन्ना चीनी मिल किच्छा में आसानी से पेराई हो सके। इस दौरान दलजीत सिंह, मनजीत सिंह, भजन सिंह, विजय सिंह, मलकीत सिंह, शेर सिंह, कृपाल सिंह, भगवंत सिंह, करनैल सिंह आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran