जागरण संवाददाता, किच्छा : बंद कमरे में एकाएक लगी आग से हड़कंप मच गया। इस दौरान कमरे में मौजूद महिला बमुश्किल अपने नवजात बच्चे को लेकर चिल्लाते हुए बाहर की ओर दौड़ पड़ी। वहीं हल्ला सुन कमरे में सो रही उसकी सास ने भी बाहर निकल अपनी जान बचाई, लेकिन लाखों का सामान खाक हो गया। वहीं आग लगने का कारण शॉट सर्किट बताया जा रहा है। पालिकाध्यक्ष दर्शन कोली ने पीड़ित परिवार से मुलाकात कर हर संभव सहयोग का आश्वासन दिया।

सुकुमार पुत्र नारायण मिश्रा वार्ड 17 किच्छा के घर में शुक्रवार मध्य रात्रि आग लग गयी। इस दौरान कमरे में उनकी पत्नी रेनू व बहु रीमा अपने नवजात पुत्र के साथ सोई थी। शुक्रवार दोपहर को ही राम मूर्ति अस्पताल भोजीपुरा बरेली से बड़े ऑपरेशन के बाद बच्चा होने पर पांच दिन के बाद वह घर लौटी थी। मध्य रात्रि अचानक शॉर्ट सर्किट से कमरे में आग लगी तो लपटों की ताप का एहसास हुआ तो रीमा नवजात बच्चे को आंचल में समेट कर किसी तरह चिल्लाते हुए बाहर निकली। उसकी आवाज से सास रेनू जो उसके साथ सो रही थी वह भी उठ कर भागी। देखते ही देखते आग ने पूरे कमरे को अपनी चपेट में ले लिया। आग से कमरे में रखा डबल बेड, अलमारी, एलसीडी टीवी, कूलर भस्म हो गए। साथ ही अलमारी में रखे जेवर तक पिघल गए। किसी तरह स्थानीय लोगों ने आग बुझाई। सूचना मिलने पर पालिकाध्यक्ष दर्शन कोली, भाजपा नगर अध्यक्ष लवी सहगल के साथ राजस्व उप निरीक्षक अशोक कुमार ने मौका मुआयना किया। अशोक कुमार ने आग से लगभग तीन लाख रुपये के नुकसान का आंकलन किया है।

Posted By: Jagran