संवाद सहयोगी, रुद्रपुर : सिडकुल की एक कंपनी में मशीन की खराबी के दौरान भी काम करते वक्त एक श्रमिक अपने दाहिने हाथ की अंगुलियां गंवा बैठा। सुपरवाइजर ने पूरी घटना का वीडियो बना लिया। जिससे प्रबंधन भड़क गया और उसे आरोप पत्र थमाकर कंपनी से निलंबित कर दिया। इस पर साथी श्रमिक डीएलसी दफ्तर पहुंच गए और हंगामा करने लगे। बाद में डीएलसी ने प्रबंधन से वार्ता कर मामले का जल्द निस्तारण कराने का भरोसा दिया, तब जाकर श्रमिक शंात हुए।

सिडकुल की कंपनी ऑटो लाइन इंडस्ट्री में प्रेस मशीन में तकनीकी खराबी आ गई थी। इसके बाद भी एक श्रमिक वहां काम करने पहुंच गया। इसी दौरान मशीन में फंसकर उसके दाहिने हाथ की पांचों अंगुलियां कटकर अलग हो गई। मौके पर मौजूद श्रमिकों के सुपरवाइजर संतोष कुमार ने उसकी वीडियो बना ली और श्रमिक का इलाज कराने की मांग लेकर कारखाना प्रबंधक के पास गए तो उन्होंने श्रमिक को मुआवजा देने के बजाए मशीन का वीडियो बनाने पर संतोष पर अनुशासनहीनता का आरोप लगाकर उसे निलंबित कर दिया। साथी को इलाज न मिलने और सुपरवाइजर को निलंबित करने की प्रबंधन की इस कार्रवाई से खफा साथी श्रमिक उपश्रमायुक्त एनसी कुलाश्री से मिले। डीएलसी ने मिल प्रबंधन से वार्ता कर संतोष के मामले का अविलंब निस्तारण कराने का अनुरोध किया। डीएलसी के जल्द कार्रवाई के आश्वासन पर ही श्रमिक शांत हुए। इस दौरान डीएलसी से वार्ता करने वालों में रोहित मेलकानी, राजेंद्र प्रसाद, अनिल गुणवंत, विश्वनाथ, दुर्गेश तिवारी, मृत्युंजय मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस