जागरण संवाददाता, रुद्रपुर : कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम ¨सह ने शुक्रवार को यहां केंद्र और प्रदेश सरकार को सवालों के कठघरे में खड़ा किया। कहा, डबल इंजन की सरकार ने बंटाधार कर दिया है। किसान हो या व्यापारी, सभी परेशान हैं। कुछ आत्महत्या को मजबूर भी हुए हैं। अपने वादों से दोनों सरकारें मुकर गई हैं। बात किसानों के ऋण माफी की हो या ब्याज मुक्त ऋण की, दोनों सरकारों ने धोखा दिया है। 15 दिन में गन्ना भुगतान का दावा भी खोखला साबित हुआ है। नोटबंदी के नाम पर जनता को परेशान किया गया है।

प्रीतम ¨सह यहां महंगाई और नोटबंदी के साथ ही सरकार की नीतियों के खिलाफ कांग्रेस की जनसभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रचंड बहुमत से उत्तराखंड में लोगों ने सरकार इस भरोसे पर बनाई थी कि केंद्र की मदद से प्रदेश का चहुंमुखी विकास होगा, लेकिन आज सरकार जनविरोधी निर्णय ले रही है। ऊधम¨सहनगर किसानों का क्षेत्र होने के बावजूद यहां की उपेक्षा की जा रही है। प्रधानमंत्री उत्तराखंड की धरती से वादा करते हैं कि किसानों का ऋण माफ कर दिया जाएगा, लेकिन किसान आत्महत्या को मजबूर हैं। केंद्र प्रदेश के पाले में गेंद फेंक रहा है तो प्रदेश ने साफ इन्कार कर दिया है। यहां तक कि किसानों को ब्याज मुक्त ऋण तक नहीं दिया जा रहा। सत्ता संभालते ही 15 दिन के भीतर गन्ना किसानों के भुगतान का दावा करने वाले मुख्यमंत्री बोलने को तैयार नहीं। ऐसे में देवभूमि में किसान आत्महत्या कर रहे हैं। व्यापारी भी अपनी जान दे रहे हैं। उन्होंने रोजगार और आतंकवाद पर भी सरकार को घेरा। उन्होंने 10 सितंबर को भारत बंद को सफल बनाने की अपील की।

पार्टी के राष्ट्रीय सचिव प्रकाश जोशी ने कहा कि आज उत्तराखंड में सड़कों का जाल उन्हीं की देन है। सरकार अब इन सड़कों का रखरखाव तक नहीं कर पा रही है। भाजपा की नाकामी के चलते आज देश की जनता कांग्रेस की ओर देख रही है।

पूर्व मंत्री तिलकराज बेहड़ ने कहा कि मोदी घोटालों के दादा हैं। सबका साथ, सबका विकास बेईमानी साबित हुआ है। किसान मुआवजे के लिए अधिकारियों के चक्कर काट रहे हैं पर सुनवाई नहीं हो रही। रुद्रपुर में एक लाख लोगों के सिर से छत छिनने का खतरा मंडरा रहा है, लेकिन सरकार अपना पक्ष तक हाईकोर्ट में नहीं रख पा रही है।

इस मौके पर जिलाध्यक्ष जितेंद्र ¨सह, विधायक जसपुर आदेश चौहान, महानगर अध्यक्ष जगदीश तनेजा, पूर्व दर्जा मंत्री हरीश पनेरू, गणेश उपाध्याय जिला पंचायत उपाध्यक्ष संदीप चीमा, पूर्व विधायक गोपाल ¨सह राणा, भुवन कापड़ी, अंकुर राय, कर्नल प्रमोद शर्मा, सुशील गावा, अलका पाल, डॉ. अजय ¨सह, मीना शर्मा, सुक्खा ¨सह, अरुण कुमार पांडेय आदि मौजूद थे। कई जगह मर्यादा भूले कांग्रेस

अपने संबोधन में कई जगह कांग्रेसी मर्यादा भूल गए। उन्होंने प्रधानमंत्री के लिए आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग भी कर दिया। तू-तड़ाक बात करने पर कुछ वरिष्ठ नेताओं ने ऐतराज भी जताया। जुमा के चलते घटी भीड़

जुमा यानी शुक्रवार होने के चलते मुस्लिम समर्थकों की भीड़ कम दिखी। जो आए भी थे, वे नमाज का समय होने के चलते खिसकने लगे। ऐसे में वक्ताओं ने भी कहा कि कार्यकर्ता सुबह साढे़ दस बजे से इंतजार कर रहे हैं। प्रदेश अध्यक्ष के विलंब से आने के कारण ऐसा हुआ। उधर, कार्यकर्ता धूप से बचने को पेट्रोल पंप के शेड के नीचे खड़े हो गए, जिससे पंप पर पेट्रोल और डीजल की बिक्री बंद हो गई।

Posted By: Jagran