संस, नानकमत्ता : बाबा जी की बरसी पर धार्मिक समागम के लिए श्री गुरुग्रंथ साहिब का स्वरूप न देने को लेकर गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी और डेरा कार सेवा आमने-सामने आ गए हैं। जिससे एक बार फिर विवाद की संभावना बन गई है।

गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी और डेरा कार सेवा ने श्री गुरुग्रंथ साहिब के स्वरूप को लेकर अलग-अलग प्रेस विज्ञप्ति जारी की है। डेरा कार सेवा ने कहा है कि धार्मिक डेरा कार सेवा में स्वर्गीय बाबा फौजा सिंह, बाबा हरबंश सिंह व बाबा टहल सिंह की बरसी पर महान समागम कर 31 लड़ियों का अखंड पाठ रखा जाता है। अखंड पाठ के लिए गुरु ग्रंथ साहिब के स्वरूप को गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी से लिया जाता था। डेरा कार सेवा की संगत द्वारा आरोप लगाया गया है कि इस बार प्रबंधक कमेटी ने डेरा कार सेवा में होने वाली बाबाओं की बरसी पर गुरुग्रंथ साहिब का स्वरूप देने से इन्कार कर दिया। जिससे संगत में रोष है।

वहीं गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने विज्ञप्ति जारी कर कहा कि स्वरूप देने से किसी ने मना नहीं किया है। डेरा कार सेवा द्वारा गलत प्रचार कर कमेटी को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है, लेकिन ऐसी कोई बात नहीं है। डेरा कार सेवा और गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के आरोप-प्रत्यारोप के चलते अब फि र दोनों आमने-सामने दिखाई देने लगे हैं, जिससे खुफिया तंत्र व पुलिस महकमा सक्रिय हो गया है।

Posted By: Jagran