संवाद सूत्र, गदरपुर : एनएच-74 नगर के मुख्य बाजार में नौ-नौ मीटर के दायरे में अतिक्रमण के दौरान कार्रवाई से छूटे भवनों व उसके छज्जों को हटाने की कार्रवाई को लेकर तहसीलदार के नेतृत्व में नगर पालिका एवं एनएचआइ के कर्मियों ने मुख्य बाजार में नापजोख कर निशान लगाए।

मंगलवार को तहसीलदार जेपी गौड़ एवं अधिशासी अधिकारी हरिचरण ¨सह के नेतृत्व में एनएचआइ एवं नगर पालिका कर्मी सकैनिया मोड़ पर पहुंचे और कोर्ट कमिश्नर के आदेश पर मुख्य बाजार पर नो नौ-नौ मीटर पर निशान लगाने शुरू कर दिए। निशान लगाने की सूचना पर व्यापार मंडल अध्यक्ष पंकज सेतिया महामंत्री मन्नी फुटेला के नेतृत्व में पुरानी तहसील के सामने पहुंचे। सेतिया ने एनएचआइ के अधिकारियों को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि उनके द्वारा 18 दिसंबर 2017 को नौ-नौ मीटर पर निशान लगाकर अतिक्रमण को हटाया गया था और उसके बाद नाला निर्माण किया गया था। सेतिया ने कहा कि प्रशासन की गलती को व्यापारी क्यों भुगते। इस पर कुछ देर के लिए नापजोख का काम रुक गया। तहसीलदार द्वारा व्यापारियों से वार्ता कर मामले को सुलझाकर नापजोख का काम शुरू हुआ। मुख्य बाजार में देर शाम तक नापजोख होने से बाजार में वाहनों का जाम लग गया। इस मौके पर एनएचआइ के साइड इंजीनियर निशांत त्रिपाठी, एसआइ मनोहर चंद, राकेश भुड्डी, राजस्व निरीक्षक मुकेश कुमार, राजू छाबडा, संजीव अरोरा आदि मौजूद थे।

--------------

व्यापारी खुद हटाएं अतिक्रमण

मुख्य बाजार में नापजोख के लिए पालिका कर्मियों के साथ पहुंचे तहसीलदार जेपी गौड़ का कहना था कि कोर्ट के आदेश के बाद तीस-तीस फिट पर निशान लगाए जा रहे है। उनका कहना था कि इसके बाद प्रशासन द्वारा मुनादी करवा दी जाएगी कि लोग अतिक्रमण स्वयं हटा ले अन्यथा प्रशासन द्वारा अतिक्रमण हटाने के खर्चे के जिम्मेदार व्यापारी होंगे।

Posted By: Jagran