संवाद सूत्र, जसपुर : दशमोत्तर छात्रवृत्ति घोटाले मामले में 28 बिचौलियों व आठ कॉलेजों पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। इस मामले में पुलिस ने आठ अलग-अलग मुकदमें दर्ज कर मामले की जांच में जुटी है। आरोपितों ने फर्जी तरीके से समाज कल्याण विभाग से लाखों रुपये हड़प लिए। पांच बिचौलियों का एक से अधिक मुकदमों में नाम दर्ज है।

एसआइटी इंस्पेक्टर भीम भाष्कर आर्य, विपिन चंद्र शर्मा, जीबी पंत ने 25 को जसपुर कोतवाली पुलिस को आठ अलग-अलग तहरीर दी। जिसमें बताया कि गजेंद्र पुत्र करन सिंह, दिग्गवजय सिंह पुत्र कौशल सिंह, उदयराज पुत्र शांति प्रसाद निवासीगण मंडुआखेड़ा, सुधारानी पत्नी राजेश गिरी, अमजद गाजी, विक्की सागर, चट्टान सिंह, प्रशांत कुमार, आशीष राज पुत्र तेजबहादुर, अनुकुल चौहान निवासीगण जसपुर, सतेंद्र कुमार पुत्र उमादत्त निवासी मोहल्ला नत्था सिंह, महिलाल पुत्र बाल कृष्ण, सिटू चौहान पुत्र विजयपाल निवासीगण महुआडाबरा, प्रमोद सैनी निवासी निवारमुंडी, दीपक सिंह पुत्र जनरैल सिंह निवासी ग्राम टांडा, कमल जीत पुत्र नरेंद्र निवासी भगवंतपुर, राजीव चौधरी पुत्र जवाहर निवासी मोहल्ला गुजरातियान ने इंडियन जीआरएस कॉलेज ऑफ एजुकेशन, राव मोहन सिंह कालेज गुड़गांव हरियाणा, यशवंत राव चौहान कॉलेज महाराष्ट्रा, रावलाल कालेज बरखा रोड हरियाणा, वाईपीएस कॉलेज भैवानी हरियाणा, कृष्णा लॉ कालेज महेंद्रगढ़, डीएवी कॉलेज रोहतक हरियाणा तथा सरस्वती कालेज महेंद्रगढ़ हरियाणा के स्वामी, प्रबंधक एवं कर्मचारियों के साथ मिलकर छात्रवृत्ति दिलाने के नाम पर समाज कल्याण विभाग के लाखों रुपये हड़प लिए। एसआइटी टीम ने बताया जांच रिपोर्ट में पांच बिचौलिए एक से अधिक मामलों में प्रकाश में आए हैं। जांच अधिकारी एसएसआइ ललित जोशी ने बताया कि आठ मुकदमों में आठ कॉलेज समेत 28 बिचौलियों के खिलाफ विभिन्न धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस