संवाद सहयोगी, खटीमा : वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. सदानंद दाते सक्रिय अपराधियों पर गुंडा एक्ट की कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही हिस्ट्रीशीटरों के क्रिया कलापों पर पैनी नजर रखने के अलावा लंबित विवेचनाओं व शिकायती पत्रों के त्वरित निस्तारण को कहा।

एसएसपी डॉ. दाते ने मंगलवार को कोतवाली में मातहतों की बैठक ली। इस दौरान उन्होंने कहा कि कोतवाली क्षेत्र पड़ोसी देश नेपाल के साथ ही उप्र की सीमा से लगा होने की वजह से अत्यधिक संवेदनशील है। ऐसे में पुलिस को विशेष चौकसी बरतने की आवश्यकता है। पूर्व में सक्रिय रहे अपराधियों के मौजूदा क्रियाकलापों पर कड़ी नजर रखी जाए। यदि किसी पुराने हिस्ट्रीशीटर ने अपराध की दुनिया से किनारा कर लिया हो अथवा वह वृद्घ हो गया तो उसका नाम सूची से हटाने की कार्रवाई की जा सकती है। साथ पेशेवर किस्म के अपराधियों के नाम हिस्ट्रीशीटर व गुंडा एक्ट की सूची में दर्ज किए जाए। एसएसपी ने लापता हिस्ट्रीशीटरों का पता लगाने व वारंटियों पर त्वरित कार्रवाई करने के लिए निर्देश दिए। इस दौरान उन्हें बताया कि कोतवाली में 100 से अधिक विवेचनाएं व 90 शिकायती पत्रों का निस्तारण लंबित है। एसएसपी ने इनके प्राथमिकता से निस्तारण को भी कहा। इस मौके पर कोतवाल योगेश उपाध्याय, एसएसआइ देवेंद्र गौरव, विनोद फत्र्याल, सुरेंद्र सिंह, राजेंद्र पंत, अशोक कुमार, नेहा ध्यानी, प्रीति व गोपाल सिंह बिष्ट आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran