जागरण संवाददाता, सितारगंज : बरसात शुरू होते ही सितारगंज समेत खटीमा व नानकमत्ता विधानसभा क्षेत्र के करीब 47 गांवों के एक लाख लोगों पर बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। हर साल इस मौसम में नदियों के उफान पर आते ही लोग सहम उठते हैं। दूसरी ओर, बार-बार की गुहार के बावजूद शासन-प्रशासन ने व्यवस्था में सुधार की तरफ आज तक ठोस पहल नहीं की। इस कदर उपेक्षा से त्रस्त ग्रामीणों की इस बार भी बाढ़ की दहशत में नींद उड़ी हुई है।

बाढ़ के चपेट में आने से इन गांव के किसानों की कई एकड़ उपजाऊ भूमि नदी की भेंट चढ़ जाती है। सितारगंज बड़ागांव, भक्ति नगर, ठाकुरनगर, राजनगर, अरविद नगर व जलपनिया लाला गांवों में बाढ़ राहत कार्य नहीं हो पाए हैं। अधिकारियों की मानें तो इस वर्ष नदी की सफाई के लिए भेजा बजट पास नहीं हो पाने से सुरक्षा उपायों पर पूरी तरह अमल नहीं हो सका।

------

आपदा वाले क्षेत्र

बड़ागांव, भक्ति नगर, ठाकुरनगर, सुरेंद्र नगर, निर्मल नगर, राजनगर, बमनपुरी पुल, झाड़ी नंबर नौ। सुखी व बैगुल नदियों के किनारे वाले सितारगंज के ये गांव आपदा की दृष्टि से अति संवेदनशील है।

-----

कैलाश नदी के निकट बसे अतिसंवेदनशील क्षेत्र

उकरौली, सतपाल, साधु नगर, दोहरा दूंगी, नकुलिया, कैलाशपुरी, दुर्गति सौत, चीकाघाट, रसोईया पुल, कौंधा अशफ, कौंधा रतन, अंजानिया।

--------

खटीमा में बाढ़ से प्रभावित होने वाले गांव

परवीन नदी की बाढ़ से ग्राम प्रतापपुर, पुरनापुर, नौसर, बंडिया, भगचुरी, हल्दी पचपेड़ा, जादोपुर एवं दाहा ढाकी गांवों के हालात विकट हो जाते हैं। इसी तरह कामन नदी से दीया, चांदपुर जबकि जगबूड़ा नदी से मेला घाट के इलाके को खतरा रहता है।

--------

नानकमत्ता क्षेत्र में प्रभावित होने वाले गाव

नानकमत्ता में निहाई और देवहा नदियों में बाढ़ आने से तटवर्ती इलाकों में हालात विकट हो जाते हैं। निहाई नदी से ऐचिंता-विहि और ज्ञानपुर गौड़ी जबकि देवहा नदी से भड़झाला, टुकड़ी, विचुवा, मोहम्मदपुर व दाह खाकी गांवों में बाढ़ के पानी से खासा नुकसान होता है।

---------

बजट बिना रुके काम

सिंचाई विभाग के ईआर बीसी नेनवाल ने बताया कि बाढ़ से बचाव के कार्यो के लिए 2014-15 में एक करोड़ दस लाख व 2018 में विभाग को एक करोड़ रुपया मिला था। वर्ष 2019 में विभाग ने बाढ़ सुरक्षा कार्यों को लेकर तीनों विधानसभा क्षेत्रों के लिए करीब दस करोड़ का बजट मांगा मगर स्वीकृत नहीं हो पाया।

-----

इन इलाकों में हुआ काम

सितारगंज के बमनपुरी, निर्मल नगर व प्रह्लाद पलसिया क्षेत्रों में विभाग ने जून में ओपन टेंडर करवा कर 72 लाख रुपयों से बाढ़ से सुरक्षा के लिए काम करवाए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस