जागरण संवाददाता, रुद्रपुर : गले में फंदा पड़ता देख करीब डेढ़ दर्ज किसान 2.21 करोड़ का मुआवजा लौटा चुके हैं। फौरी तौर पर इन किसानों को राहत भले ही मिल गई हो, लेकिन इनका जेल जाना तय माना जा रहा है। वजह, वित्तीय नुकसान तो दोनों ने ही पहुंचाया है।

एसआइटी के मुताबिक अब तक जसपुर के अजमेर ¨सह 10 लाख, गुरवेल ¨सह 10 लाख, सतनाम ¨सह 20 लाख रुपये, सुखवंत ¨सह 20 लाख रुपये, सुखदेव ¨सह 20 लाख रुपये, काशीपुर के अमरजीत कौर चार लाख रुपये, किच्छा के सुरेश कुमार 83,187 रुपये, ईश्वरी प्रसाद गंगवार 1,45,623 रुपये, जसपुर के सतनाम ¨सह 50 लाख रुपये, गर¨जदर कौर 10 लाख रुपये, हर¨जदर कौर 10 लाख रुपये, काशीपुर के गगनदीप कौर 20 लाख रुपये, बाजपुर के अवतार ¨सह 20 हजार रुपये, हीरालाल 50 हजार रुपये, दिलशेर ¨सह 50 हजार रुपये, सुबेग ¨सह 20 हजार रुपये, दिलबाग ¨सह 20 हजार रुपये तथा सितारगंज के किसान इंद्रपाल ¨सह 15 लाख रुपये का मुआवजा वापस कर चुके हैं। इसके अलावा कुछ और किसानों ने भी मुआवजा लौटाया है। बड़ा सवाल यह है कि मुआवजा वापस कर देने भर से गुनाह कैसे माफ हो सकता है। इसीलिए एसआइटी इन किसानों के खिलाफ चार्जशीट लगाने की तैयारी कर रही है। ऐसे में इनका जेल जाना भी तय माना जा रहा है।

Posted By: Jagran