संवाद सहयोगी, नई टिहरी: बारिश से बंद जिले के सात ग्रामीण मोटर मार्ग पांच दिल बाद भी नहीं खुल पाए हैं। इससे ग्रामीणों को आवागमन की विकट समस्या से जूझना पड़ रहा है। मार्ग अवरुद्ध होने के कारण ग्रामीणों को चार किलोमीटर से दस किलोमीटर तक की पैदल दूरी नापनी पड़ रही है। यही नहीं, इन गांवों में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति भी प्रभावित हो रही है। सड़कें बंद होने के कारण ग्रामीणों का अन्य जगहों से संपर्क कटा हुआ है।

बारिश के साथ ही ग्रामीणों की दुश्वारियां भी बढ़ी हैं। जिले में गहड़-पल्या पाटल, डागर-कोठार, सुपाणा-धारी, मोलाना-कुंडी, लालत-सिवालीधार, घुत्तू-गंगी, गजा-तमियार ग्रामीण मोटर मार्ग बंद पड़े हैं जिस कारण ग्रामीणों को आवागमन सहित अन्य समस्याओं से जूझना पड़ रहा है। घुत्तु-गंगी मार्ग बंद होने के कारण ग्रामीणों को करीब दस किमी की पैदल चढ़ाई चढ़नी पड़ रही है। खासकर बीमार लोगों को अस्पताल पहुंचाना चुनौती बनी है। वहीं कीर्तिनगर प्रखंड की डागर-कोठार ग्रामीण मोटर मार्ग बंद होने के कारण डागर क्षेत्र के ग्रामीणों को पिछले पांच दिनों से चार किलोमीटर की पैदल दूरी नापनी पड़ रही है। यही हाल सुपाणा क्षेत्र के ग्रामीणों का है। सुपाणा-धारी मोटर मार्ग धारी के पास करीब आठ मीटर धंस गई है। इस सड़क को खुलने में अभी समय लगेगा, जिससे ग्रामीणों की परेशानी बढ़ गई है। कई जगहों पर ग्रामीणों को लंबा सफर तय करना पड़ रहा है। बीते दिन 14 मोटर मार्ग बंद हो गए थे, जिनमें सात मोटर मार्ग तो सुचारू हो गए हैं, लेकिन अन्य सात मोटर मार्ग पिछले पांच दिनों से बंद पड़े हैं। गंगी गांव के बचन सिंह व डागर निवासी सोहनवीर सिंह का कहना है कि सड़क बंद होने से ग्रामीणों को आवागमन की समस्या से जूझना पड़ रहा है। उन्होंने जल्द सड़क सुचारू किए जाने की मांग की है।

Edited By: Jagran