अनुराग उनियाल, नई टिहरी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ की मंशा को शिक्षा विभाग ही पलीता लगा रहा है। चंबा ब्लॉक के जुगड़ गांव के प्राइमरी स्कूल के बंद होने के कारण इस स्कूल में पढ़ने वाली तीन बालिकाएं चार दिन से स्कूल नहीं जा पा रही हैं। तीन छात्राएं होने के कारण विभाग ने इस स्कूल को बंद कर एकमात्र शिक्षक को डेढ़ किमी दूर श्रीकोट के विद्यालय स्थानांतरित कर दिया है। अब कहा जा रहा है कि तीन छात्राएं भी डेढ़ किमी दूर श्रीकोट विद्यालय में दाखिला लें। लेकिन ग्रामीण और अभिभावक इसका विरोध कर रहे हैं।

जुगड़ गांव में मानसी, मनीषा और इशिता तीन छात्राएं कक्षा चार में पढ़ती हैं। वहीं, श्रीकोट विद्यालय में आठ बच्चे पढ़ते हैं। ग्रामीणों का कहना है कि डेढ़ किमी दूर जाने से परेशानी होगी। सोमवार को जनता दरबार में भी ग्रामीण इस समस्या को लेकर आए, लेकिन डीएम के जनता दरबार से भी उन्हें कोई उम्मीद की किरण नजर नहीं आई। पूर्व प्रधान हरि प्रसाद सकलानी का कहना है कि केंद्र सरकार और शिक्षा विभाग बेटी पढ़ाने का नारा दे रहा है, लेकिन उसके बाद भी विद्यालय बंद किया जा रहा है। जो सही नहीं है।

----

स्कूल बंद कर दिया गया है। अगर बालिकाओं को विद्यालय दूर पड़ेगा तो उनके आने-आने के लिए अभिभावकों को भत्ता दिया जाएगा।-सुदर्शन ¨सह बिष्ट, जिला शिक्षा अधिकारी, बेसिक टिहरी गढ़वाल

----

मेरे संज्ञान में आया है कि शिक्षा विभाग ने स्कूल बंद करने के आदेश दिए हैं। इस संबंध में विभागीय अधिकारियों को विद्यालय में जाकर स्थिति देखने के निर्देश दिए गए हैं।

सोनिका, डीएम टिहरी गढ़वाल ----

दिखोल गांव में भी विरोध

चंबा ब्लॉक के ही जुगड़ गांव के पास दिखोलगांव में भी प्राइमरी स्कूल को बंद करने के आदेश किए गए हैं। यहां पर दस बच्चे वर्तमान में पढ़ रहे हैं। नियमों के तहत दस से कम छात्रसंख्या वाले विद्यालय बंद किए जा रहे हैं। ऐसे में ग्रामीण यहां पर स्कूल बंद करने का विरोध कर रहे हैं। ग्रामीण शूरवीर ¨सह तोपवाल का कहना है कि दस से कम छात्र संख्या वाले विद्यालय बंद किए जाते हैं, लेकिन हमारे यहां दस छात्रसंख्या है। ऐसे में विद्यालय बंद करने का विरोध किया जा रहा है।

---------

जनता दरबार में 32 शिकायत दर्ज

नई टिहरी: सोमवार को जिला सभागार में आयोजित जनता दरबार में कुल 32 शिकायत दर्ज हुई। जनता दरबार में प्रगतिशील विकास संगठन टिहरी गढवाल के अध्यक्ष दिनेश प्रसाद ने गैस एजेंसी ऋषि गैस सेवा के सम्बन्ध में शिकायत दर्ज करायी कि नकोट, गजा, चाका में इस गैस ऐजेन्सी के द्वारा नियमित रूप से गैस आपूर्ति नहीं की जा रही है। जिससे क्षेत्रवासियों को गैस की किल्लत हो रही हैं। मैगाधार ग्राम भेटी निवासी विक्रमा देवी ने कहा कि दैवीय आपदा में उनके मकान को खतरा हो गया है। लोनिवि को शिकायत के बाद भी सुरक्षा दीवार नहीं बना रहा है। डीएम ने इस मामले में लोनिवि अधिकारियों को तत्काल कार्यवाही के निर्देश दिए। टिहरी झील में बोट संचालकों ने डीएम से झील में नौकायन गतिविधियां संचालित कराने की मांग की। इस अवसर पर एडीएम शिवचरण त्रिपाठी, डीएफओ कोको रोसे आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran