टिहरी, जेएनएन। जिला कारागार टिहरी में सात साल से कम सजा वाले मामलों में बंद छह सजायाफ्ता और बीस विचाराधीन बंदियों को छह महीने के पैरोल और अंतरिम जमानत पर छोड़ा जाएगा। उससे पहले सभी बंदियों का स्वास्थ्य परीक्षण कराया जाएगा और उन्हें विभाग 15 दिन की निगरानी में रखेगा। 

सिविल जज सीनियर डिवीजन अशोक कुमार ने बताया कि टिहरी जिले में सात साल से कम सजा वाले मामलों में छह सजायाफ्ता और 20 विचाराधीन बंदियों को छह महीने के लिए पैरोल और अंतरिम जमानत पर छोड़ा जाएगा। इन सभी बंदियों को डीएम और एसएसपी की निगरानी और निर्देश पर अपने घरों में पहुंचाया जाएगा। इस दौरान लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह पालन किया जाएगा। सभी बंदियों का स्वास्थ्य परीक्षण कराने के बाद ही घर भेजा जाएगा और 15 दिन तक सभी को स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में रखा जाएगा।

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन के दौरान पुलिस ने एक डंडे से सभी को हांका, चिकित्सकों तक को डयूटी पर जाने से लौटा दिया

15 बंदियों को पेरोल पर छोड़ने की सिफारिश

चमोली जिला कारागार से 15 बंदियों को पेरोल पर छोड़ने की सिफारिश की गई है। कोरोना के चलते कोर्ट के आदेशों के चलते बंदियों को पेरोल पर छोड़ा जाना है। जिला कारागार के जेलर प्रमोद पांडे ने बताया कि 13 सजायाफ्ता बंदियों को छह माह की पेरोल पर छोड़ने के लिए शासन को सूची भेजी गई है, जबकि दो विचाराधीन बंदियों को पेरोल के लिए जिला न्यायालय को सूची भेजी गई है। जेलर ने बताया कि सात साल से कम सजा वाले बंदियों कै पेरोल पर छोड़ने का आदेश कोर्ट का है। उन्होंने कहा कि पेरोल आदेश के बाद इन बंदियों को छोड़ा जाएगा।

यह भी पढ़ें: उत्‍तराखंड में लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर 263 लोग किए गए गिरफ्तार, 46 मुकदमे दर्ज

 

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस