संवाद सहयोगी, नई टिहरी: बचपन में पोलियो के चलते मुकेश के दोनों पांव सीधे नहीं हो पाए, जिससे वह चलने में असमर्थ हो गया। रविवार को उसकी शादी थी व्हीलचेयर पर दूल्हा दुल्हन के घर बरात लेकर पहुंचा। इसके लिए दिव्यांग पुनर्वास केंद्र के माध्यम से मुकेश के लिए व्हीलचेयर उपलब्ध करवाई गई।

जाखणीधार प्रखंड के मरोड़ा गांव निवासी मुकेश की बरात रविवार को पीपलडाली पूनम के घर पहुंची। पूनम पूर्ण रूप से सामान्य है। दूल्हा व्हील चेयर पर बैठकर दुल्हन के घर पहुंचा। मुकेश के बारे में उसके परिचित आशीष नेगी ने जब राड्स संस्था के अध्यक्ष सुशील बहुगुणा को जानकारी दी तो बहुगुणा ने जिला दिव्यांग पुनर्वास केंद्र के माध्यम से व्हीलचेयर उपलब्ध करवाई गई। इस अवसर पर सुशील बहुगुणा ने कहा कि मुकेश जैसे दिव्यांग समाज के पथ प्रदर्शक हैं, जिन्होंने अपनी दिव्यांगता को बाधा नहीं बनने दिया। समाज को इससे प्रेरणा लेनी चाहिए। मुकेश ने कहा कि दिव्यांगजन भी समाज का अभिन्न अंग है। वे शारीरिक रूप से अक्षम जरूर है लेकिन जीवन में जीने की कला होनी चाहिए। जो लोग नशे का सेवन करते हैं, वे अपने को अक्षम बना देते हैं। मुकेश कभी शराब का सेवन नहीं करते।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस