नई टिहरी, [जेएनएन]: भागीरथीपुरम स्थित राजमाता बालिका इंटर कालेज में सोमवार रात खाना खाने के बाद 17 छात्राएं बीमार हो गईं। इसके बाद उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया, जहां अब बालिकाओं की हालत में सुधार है। 

सोमवार की रात भागीरथीपुरम स्थित राजमाता बालिका इंटर कॉलेज के हॉस्टल में रहने वाली छात्राओं ने मैस में खाना खाया। उसके बाद कुछ छात्राओं की तबीयत खराब हो गई। इसके बाद उन्हें रात को ही टीएचडीसी अस्पताल ले जाया गया। यहां पर 17 छात्राओं को भर्ती कराकर उपचार दिया गया। उसके बाद डॉक्टरों की सलाह पर विद्यालय प्रबंधन ने मंगलवार दोपहर को 17 छात्राओं को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया। अस्पताल में 17 छात्राएं भर्ती कराई गईं, जिन्हें फूड प्वॉइजनिंग की शिकायत बताई गई। वहीं तीस अन्य छात्राओं को भी पेट दर्द की शिकायत पर अस्पताल लाया गया, जहां उन्हें दवा दी गई। 

छात्राओं के साथ आई शिक्षिका आराधना कुकरेती ने बताया कि हॉस्टल में 93 छात्राएं रहती हैं। सभी ने एक साथ खाना खाया लेकिन कुछ छात्राओं की तबीयत खराब हो गई। खाना में अगर कुछ खराबी होती तो सभी की तबीयत खराब होती। अब सभी छात्राओं की हालत सही है और उनके चेकअप के लिए उन्हें जिला अस्पताल लाया गया। 

जिला अस्पताल के डॉक्टर जगदीश शर्मा ने बताया कि 17 छात्राएं एडमिट की गई हैं। वहीं सभी को फूड प्वॉइजनिंग की शिकायत है। वहीं तीस अन्य छात्राओं को भी पेट दर्द की शिकायत पर उनका चेकअप किया गया और उन्हें दवा दी गई है। छात्राओं के एडमिट होने की खबर पर सीएमओ डॉ. भागीरथी जंगपांगी और एसडीएम चतर सिंह चौहान ने अस्पताल पहुंचकर छात्राओं के हाल की जानकारी ली। सीएमओ डॉ. भगीरथी जंगपांगी ने बताया कि 17 छात्राएं एडमिट कराई गई हैं। बीती रात छात्राओं ने छोले खाए थे जिसके बाद फूड प्वॉइजनिंग की शिकायत आई है। खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम से खाने के सैंपल भी कराए गए हैं। 

यह भी पढ़ें: फूड प्वॉइजनिंग से पांचवी के छात्र की मौत, एक की हालत गंभीर

यह भी पढ़ें: ऑपरेशन तो कराइए, लेकिन एनेस्थेटिक बाहर से लाइए

यह भी पढ़ें: कर्मियों की हड़ताल से दून अस्पताल के वार्डों में पसरी गंदगी, परिसर में कूड़ा

Posted By: Raksha Panthari