संवाद सूत्र, गुप्तकाशी : राइंका कोटमा में शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वाले अध्यापकों तथा परिषदीय परीक्षाओं में सर्वोच्च स्थान प्राप्त करने वाले मेधावी छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सेवानिवृत्त सूबेदार मुकंदी ¨सह सत्कारी ने कहा कि छात्रों के मानसिक निर्माण के लिए अध्यापकों के सहयोग की नितांत आवश्यकता होती है। उन्होंने कहा कि छात्रों में चरित्र तथा अनुशासन का निर्माण भी अध्यापक करता है। इसलिए जरूरी है। कि छात्रों को अध्यापकों की सदैव सम्मान करना चाहिए। पीटीए अध्यक्ष मनबर ¨सह चौहान ने कहा कि जिन अध्यापकों को सम्मानित किया जा रहा है। उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में विशिष्ट कार्य किए हैं। इस दौरान राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित सुरेशानंद गौड़, नशा मुक्ति संगठन के प्रणेता आनंद मणि सेमवाल, गयादत्त भटृ, चैत¨सह रावत, त्रिलोचन भट्टं समेत कई लगभग एक दर्जन से अधिक छात्रों को स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया गया। नशा मुक्ति संगठन के प्रणेता आनंद मणि सेमवाल ने छात्रों का आह्वान करते हुए कहा कि वह नशा नहीं अपितु अच्छी दिशा अपनाएं। कहा कि नशा व्यक्ति को सामाजिक, आर्थिक तथा मानसिक रूप से विक्षिप्त बना देता है। इसलिए समय पर नशा छोड़ कर लोगों को इसके प्रति जागरूक करना चाहिए। इस अवसर पर प्रधानाचार्य केएन नौटियाल, विशंभर भट्टं समेत सैकड़ों लोग मौजूद थे।

Posted By: Jagran