संवाद सहयोगी, रुद्रप्रयाग : सर्व शिक्षा, मध्याह्न भोजन योजना एवं राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान की अनुश्रवण समिति की बैठक में जिलाधिकारी ने परियोजनाओं की वित्तीय एवं भौतिक प्रगति का जायजा लिया। साथ ही उन्होंने स्कूली छात्रों के समग्र विकास के लिए निष्ठा से कार्य करने के निर्देश दिए। वहीं सर्वशिक्षा अभियान में 22 करोड़ 44 लाख एवं रमसा में छह करोड़ एक लाख 31 हजार का बजट विभिन्न कार्यक्रमों के लिए स्वीकृत हुआ है।

जिला कार्यालय सभागार में आयोजित बैठक में जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने कहा कि सरकारी योजनाओं का स्कूली छात्र-छात्राओं को अनिवार्य रूप से लाभ मिलना चाहिए। गुणवत्ता शिक्षा डायट रतूडा को न्यून शैक्षिक स्तर वाले विद्यालयों को चिह्नित कर उनके लिए पृथक से प्रशिक्षण योजना तैयार करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने कहा कि ऐसे विद्यालयों को चिह्नित किया जाए जो दैनिक रिपोर्ट प्रस्तुत नहीं कर रहे। सर्वशिक्षा अभियान की वित्तीय एवं भौतिक प्रगति की समीक्षा में योजना के तहत वित्तीय वर्ष के लिए 22 करोड़ 44 लाख की स्वीकृति मिली है। जिसके सापेक्ष साढ़े तीन करोड़ प्राप्त हुए है। जिसमें निश्शुल्क पाठय पुस्तक, गणवेश, शिक्षक प्रशिक्षण, विद्यालय अनुदान निर्माण कार्य, नवाचारी कार्यक्रम, अधिगम सवंर्धन कार्यक्रम, आत्म सुरक्षा, कौशल, पुस्तकालय स्थापना आदि कार्यक्रम संचालित किए जाएंगे। इसी प्रकार राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा योजना के तहत वित्तीय वर्ष के लिए छह करोड एक लाख 31 हजार का बजट स्वीकृत किया गया है। माध्यमिक शिक्षा में विद्यालय सुदृढ़ीकरण, सोलर पेनल, डिजिटल इनिशिएटिव, एसएमडीसी प्रशिक्षण, सर्वोत्तम प्रयोगशाला, डिजिटल बोर्ड, सुपर 100, कला उत्सव, विद्यालय विकास अनुदान, विद्यालय विकास अनुदान, पुस्तकालय, विज्ञान महोत्सव, बालिका अभिप्रेरण, आत्म सुरक्षा आदि कार्यक्रम संचालित किए जाएंगे। इस अवसर पर जिपंस गोपाल पंवार, श्रीमती अंजू जगवान, सभासद लक्ष्मण ¨सह, सीडीओ एनएस रावत, एसडीएम सदर देवानंद शर्मा, सीईओ चित्रानंद काला, कोषाधिकारी गिरीश चंद, डीईओ माध्यमिक एलएस दानू, डीईओ बेसिक विद्याशंकर चतुर्वेदी आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran