संवाद सहयोगी, रुद्रप्रयाग: केदारनाथ यात्रा एक बार फिर रफ्तार पकड़ने लगी है। देशभर से भारी संख्या में यात्री बाबा केदार के दर्शन को पहुंच रहे हैं। कड़ाके की ठंड में भी यात्री कई घंटे कतार में नंगे पांव खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं। वही सोनप्रयाग में एक साथ यात्रियों को गौरीकुंड के लिए छोड़े जाने पर अव्यवस्थाएं सामने आ रही हैं।

केदारनाथ में इन दिनों प्रतिदिन करीब 10 हजार से अधिक यात्री दर्शन को पहुंच रहे हैं। सरकार की ओर से तीन दिन तक केदारनाथ यात्रा पर अस्थायी रोके के बाद फिर से यात्रा सुचारु होने पर विभिन्न राज्यों से बड़ी संख्या में यात्री केदारनाथ धाम पहुंच रहे हैं। भारी भीड़ होने के कारण केदारनाथ में भोले बाबा के दर्शन को लंबी कतार लगानी पड़ रही है। उधर, सोनप्रयाग में भी प्रशासन यात्रियों से जरूरी जानकारियां लेने के बाद ही उन्हें गौरीकुंड जाने की अनुमति दे रहा है। लेकिन, भारी भीड़ होने पर एक साथ यात्रियों को छोड़ा जा रहा है, जिससे दिक्कत हो रही है। सोनप्रयाग से गौरीकुंड के लिए छोटे वाहन शटल सेवा संचालित होती है। एक साथ हजारों की संख्या में यात्री सोनप्रयाग से गौरीकुंड के लिए छोड़े जाने पर वाहन नहीं मिल पा रहे हैं।

वहीं केदारनाथ में अक्टूबर महीने में भी यात्रियों की भारी भीड़ से होटल, लाज और यात्रा मार्ग से जुड़े व्यापारियों को लाभ मिल रहा है। लेकिन, प्रशासन ने इतनी बड़ी संख्या में तीर्थयात्रियों के पहुंचने की उम्मीद नहीं की थी। ऐसे में प्रशासन ने करीब पांच हजार यात्री प्रतिदिन के हिसाब से व्यवस्था की थी, जबकि एक दिन में रिकार्ड 16 हजार यात्री दर्शन कर चुके हैं। इसे लेकर जिलाधिकारी मनुज गोयल ने कहा कि केदारनाथ यात्रा के लिए उम्मीद से अधिक यात्री आ रहे हैं। यात्रियों को किसी भी प्रकार की दिक्कत न हो, इसका पूरा ध्यान रखा जा रहा है। सभी यात्रा पड़ावों पर सेक्टर प्रभारियों को जरूरी सुविधाएं जुटाने के निर्देश पूर्व में ही दिए जा चुके हैं।

Edited By: Jagran