संवाद सहयोगी, रुद्रप्रयाग। Kedarnath Yatra 2021 केदारनाथ दर्शनों को आस्था का सैलाब उमड़ रहा है। यात्रियों की भीड़ के चलते गौरीकुंड (केदारनाथ) हाइवे पर दोपहर को कुंड से गुप्तकाशी तक तकरीबन पांच किमी लंबा जाम लग गया। तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस जाम को खुलवा सकी। तब जाकर यात्रा सुचारु हुई। यात्रा प्रशासन की ओर से यात्रियों को अलग-अलग पड़ावों पर रोकने के निर्देश दिए गए हैं, ताकि यात्रा बाधित न हो।

अब तक 60 हजार से अधिक श्रद्धालु बाबा केदार के दर्शनों को पहुंच चुके हैं। बीते कुछ दिनों से यात्रियों की आमद लगातार बढ़ रही है और रोजाना छह हजार से अधिक यात्री दर्शनों को पहुंच रहे हैं। जैसे-जैसे कपाटबंदी की तिथि नजदीक आ रही है, गुप्तकाशी, सोनप्रयाग, गौरीकुंड, सीतापुर, रामपुर, फाटा आदि पड़ाव स्थल यात्रियों से पैक हो गए हैं। हेलीपैड भी फुल हैं। वहीं, भीड़ बढ़ने के कारण शुक्रवार को जिला मुख्यालय रुद्रप्रयाग से 33 किमी आगे कुंड-गुप्तकाशी के बीच पांच किमी लंबा जाम लग गया।

गौरीकुंड के पूर्व प्रधान मायाराम गोस्वामी ने बताया कि व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस ने पड़ाव स्थलों पर यात्रियों को रोका हुआ है। गुप्तकाशी के थाना प्रभारी अजय कुमार ने बताया कि यात्रियों की सुविधा के लिए उन्हें एक ही पड़ाव पर इकट्ठा न होने की अपील की जा रही है। हालांकि, इसके लिए यात्रियों को कोई दवाब नहीं डाला जा रहा।

तीन घंटे बद रहा बदरीनाथ हाइवे

बदरीनाथ हाइवे भी चमोली व जोशीमठ के बीच पाखी के पास नवर्निमित पुल के गार्डर चढ़ाने के कारण सुबह सात बजे से तीन घंटे तक बंद रहा। यहां एनएच की ओर से दो क्रेन लगाई गई थी, जिससे हाइवे के दोनों ओर वाहनों की कतार लग गई। सुबह दस बजे हाइवे यातायात के लिए खुल पाया। बदरीनाथ धाम में अब तक 36352 यात्री दर्शन कर चुके हैं।

गंगोत्री और यमुनोत्री में बढ़ रहे यात्री

गंगोत्री व यमुनोत्री धाम में भी यात्रियों की आमद लगातार बढ़ती जा रही है। गंगोत्री में अब तक 15187 और यमुनोत्री में 12930 यात्री दर्शन कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें:- 20 नवंबर को बंद होंगे बदरीनाथ धाम के कपाट, छह नवंबर सुबह केदारनाथ और दोपहर को बंद होंगे यमुनोत्री धाम के कपाट