संवाद सहयोगी, रुद्रप्रयाग: डीएम मंगेश घिल्डियाल ने राजस्व वसूली का प्रतिशत कम होने पर कड़ी नाराजगी जताई तथा कहा कि वसूली में यदि सुधार न हुआ तो अमीनों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे दी जाएगी। डीएम ने कहा कि तहसीलदारों को भी न्यून वसूली पर नोटिस जारी किए जाएंगे।

राजस्व एवं प्रशासनिक अधिकारियों की मासिक बैठक में डीएम मंगेश घिल्डियाल ने तीनों तहसीलों के एसडीएम को वाद व अन्य कार्यो में तेजी से निस्तारण करने के निर्देश दिए। डीएम ने अधीनस्थ तहसीलदार, नायब तहसीलदार व पटवारी की नियमित प्रगति का निरीक्षण न करने पर नाराजगी जताई। कहा कि समय पर मॉनिट¨रग न होने पर कार्य में धीमी प्रगति व क्षेत्रीय जनता की समस्याओं के निस्तारण में देरी होती है। इसके साथ ही राजस्व क्षेत्र से पुलिस विभाग को मामले हस्तांतरित करने से पूर्व पूरी जानकारी अधीनस्थों से लेने, सीएससी सेंटर में सेवा शुल्क का बोर्ड चस्पा कर चेकिंग करने के निर्देश भी दिए। रुद्रप्रयाग तहसील में वसूली में प्रगति न करने वाले एक अमीन को अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने व रुद्रप्रयाग तहसीलदार के वसूली में अगले माह सुधार न होने पर नोटिस की चेतावनी दी।

नगर पालिका व पंचायतों की समीक्षा के दौरान अधिशासी अधिकारियों को क्षेत्र भ्रमण कर आवश्यकतानुसार लोगों को मूलभूत सेवा प्रदान करने और अवर अभियंताओं को निकायों से सप्ताह में दो दिन नगर निकायों के कार्य करने व देखने को कहा। जिला पूर्ति अधिकारी ने बताया कि माह अक्टूबर तक का गेहू गोदामों में भेज दिया गया है और चावल भेजने का कार्य गतिमान है। गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष रजिस्ट्री की संख्या में वृद्धि होने के बावजूद शुल्क में वृद्धि न होने पर उपनिबंधक ने बताया गया कि इस वर्ष सरकारी रजिस्ट्री अधिक हुई है, जिसमें स्टांप शुल्क नहीं लिया जाता है, इस कारण शुल्क में वृद्धि नहीं हुई है। इस अवसर पर एडीएम गिरीश गुणवंत, एसडीएम सदर देवानंद, जखोली देवमूर्ति यादव, उखीमठ गोपाल ¨सह, सीओ श्रीधर बडोला, एआरटीओ मोहित कोठारी, तहसीलदार रूद्रप्रयाग श्रेष्ठ गुनसोला, जखोली शालिनी मौर्य, उखीमठ जयवीर राम बधाणी सहित राजस्व विभाग के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।

Posted By: Jagran