संवाद सहयोगी, रुद्रप्रयाग: चिकित्सा प्रबंध समिति की बैठक में जिला चिकित्सालय की व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने के लिए विभिन्न कार्यों पर व्यय के लिए 78.81 लाख का बजट अनुमोदन किया गया। डीएम ने आयुष्मान कार्ड के अन्तर्गत प्राप्त शिकायत को गंभीरता से लेते हुए चिकित्सा अधिकारियों को फटकार लगाई।

जिला कार्यालय कक्ष में आयोजित बैठक में जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने कहा कि चिकित्सालय में उपचार के लिए आने वाले प्रत्येक मरीज का ओपीडी पर्चा बनाने से पूर्व उसे अवश्य पूछ लिया जाए, कि उसका आयुष्मान योजना के अन्तर्गत कार्ड बना है अथवा नहीं। आयुष्मान कार्ड धारक मरीज का उपचार प्रत्येक दशा में आयुष्मान योजना के अन्तर्गत करना सुनिश्चित किया जाए।साथ ही जिला चिकित्सालय में कार्यरत चिकित्सकों की अवकाश स्वीकृति की संस्तुति जिलाधिकारी के माध्यम एवं सरकारी अस्पताल में रेडियोलॉजिस्ट के अवकाश पर रहने पर सरकारी दर पर मरीजों के अल्ट्रासाउंड निजी अस्पताल से कराने के लिए मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को निर्देशित किया गया।

बैठक में आगामी कार्ययोजना के अन्तर्गत चिकित्सालय की विभिन्न सेवाओं से सम्बन्धित कुल 18 प्रस्ताव समिति के विचारार्थ के उपरान्त कुछ प्रस्तावों पर अनुमोदन प्रदान किया गया। तथा कुछ प्रस्तावों के आंशिक अंश को स्वीकार किया गया। चिकित्सालय में जलापूíत बाधित होने के सम्बन्ध डीएम ने चिकित्सालय में जलापूíत नियमित सुनिश्चित करने के लिए जलसंस्थान को निर्देश दिए। विधायक के प्रतिनिधि नरेन्द्र सिंह पंवार ने सहमति व्यक्त की। कोटेश्वर स्थित माधवाश्रम चिकित्सालय में सीटी स्कैन मशीन को तत्काल क्रियाशील किया जाए ताकि जनसामान्य को उसका लाभ प्राप्त हो सके।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस