रुद्रप्रयाग, बृजेश भट्ट। केदारनाथ में चल रहे पुनर्निर्माण कार्यों को गति देने के लिए अब अमेरिका में निर्मित सीएच-47एफ चिनूक मालवाहक हेलीकॉप्टर की मदद ली जाएगी। यह कदम रूस में निर्मित एमआइ-26 मालवाहक हेलीकॉप्टर उपलब्ध न हो पाने के कारण उठाया जा रहा है, जिसका वर्तमान में सर्विसिंग का कार्य चल रहा है। पीएमओ से हरी झंडी मिलते ही वायु सेना का यह अत्याधुनिक चिनूक हेलीकॉप्टर केदारनाथ भारी मशीनें पहुंचाने का कार्य शुरू कर देगा।

केदारनाथ धाम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट के तहत पुनर्निर्माण कार्य चल रहे हैं, जो कि अब अंतिम चरण में हैं। आद्य शंकराचार्य की समाधि की खुदाई का कार्य भी लगभग पूरा हो चुका है। इन सभी कार्यों को गति देने के लिए वर्ष 2015 में एमआइ-26 मालवाहक हेलीकॉप्टर से डंफर, जेसीबी व पोकलैंड मशीन केदारनाथ पहुंचाई गई थीं। लेकिन, जिस गति से इन दिनों केदारनाथ में आद्य शंकरचार्य की समाधि समेत अन्य निर्माण कार्य चल रहे हैं, उन्हें अंजाम तक पहुंचाने के लिए भारी मशीनों को होना जरूरी है। इसी को देखते हुए प्रशासन लगातार पीएमओ से एमआइ-26 हेलीकॉप्टर उपलब्ध कराने की मांग कर रहा था। लेकिन, बताया जा रहा कि देश में सिर्फ तीन ही एमआइ-26 हेलीकॉप्टर हैं। इनमें से भी सिर्फ एक ही नियमित कार्य कर रहा है, जिसकी इन दिनों सर्विसिंग चल रही है। ऐसे में उसका उपलब्ध हो पाना संभव नहीं है। 

ऐसे में हाल ही में अमेरिका से भारत पहुंचे सीएस-47एफ चिनूक हेलीकॉप्टर की मदद से केदारनाथ में भारी मशीनें पहुंचाने की तैयारी है। अमेरिका से भारत को 15 चिनूक हेलीकॉप्टर मिलने हैं, जिनमें से चार हाल ही में भारत पहुंच चुके हैं। यह हेलीकॉप्टर 11 टन भारी वजन उठा सकता है। जबकि, केदारनाथ पहुंचाए जाने वाले डंफर का वजन छह से आठ टन है। इसके अलावा जेसीबी व पोकलैंड मशीनों को दो से तीन हिस्सों में बांटकर केदारनाथ पहुंचाया जाएगा।

चिनूक हेलीकॉप्टर की विशेषता

यह हेलीकॉप्टर दुर्गम पहाड़ियों में भी 11 टन भारी सामग्री आसानी से एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जा सकता है। चिनूक डबल इंजन वाला हेलीकॉप्टर है और किसी भी तरह के मौसम में यह आसानी से उड़ान भर सकता है। खास बात यह कि यह छोटे हेलीपैड से भी उड़ान भरने में सक्षम है।

बोले जिलाधिकारी

मंगेश घिल्डियाल (जिलाधिकारी, रुद्रप्रयाग) का कहना है कि केदारनाथ में चल रहे निर्माण कार्यों के लिए भारी मशीनों की जरूरत है। इसके लिए शासन से पत्राचार किया गया है। तकनीकी कारणों से एमआइ-26 मालवाहक हेलीकॉप्टर उपलब्ध नहीं हो पा रहा। लिहाजा, चिनूक हेलीकॉप्टर उपलब्ध कराने के लिए पीएमओ से वार्ता चल रही है।

यह भी पढ़ें: अब केदारनाथ के लिए 16 नहीं, 14 किमी ही पैदल चलेंगे यात्री; पढ़िए पूरी खबर

यह भी पढ़ें: केदारनाथ के लिए बढ़ा पैदल यात्रा का आकर्षण, यात्री उठा रहे रोमांच का लुत्फ

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस