रुद्रप्रयाग, [जेएनएन]: केदारनाथ में साधना के लिए रुद्रप्रयाग जिला प्रशासन ने एक गुफा तैयार कर ली है। गुफा का निर्माण विशुद्ध रूप से पहाड़ी शैली में किया गया है। यह गुफा केदारनाथ मंदिर के बायीं ओर की पहाड़ी पर स्थित है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केदारपुरी से दो किमी पहले गरुड़चट्टी में स्थित गुफा की तर्ज पर केदारनाथ में भी गुफा बनाने के निर्देश प्रदेश सरकार को दिए थे। ताकि साधना का इच्छुक कोई भी व्यक्ति केदारपुरी साधना कर सके। इसी कड़ी में जिला प्रशासन ने केदारनाथ में पांच मीटर लंबी और तीन मीटर चौड़ी यह गुफा तैयार की है। यहां पर साधना के लिए सभी जरूरी सुविधाएं उपलब्ध हैं। गुफा की छत पर पठाल (पहाड़ी पत्थर) लगाई गई हैं और उसका आंगन भी पठालों से बनाया गया है। 

साधना के दौरान गुफा का दरवाजा पूरी तरह बंद रहेगा और खिड़की से ही उसे भोजन व अन्य जरूरी सामान भिजवाया जाएगा। आपातकाल के लिए गुफा में लोकल फोन की सुविधा भी उपलब्ध है। ताकि गढ़वाल मंडल विकास निगम कार्यालय को तत्काल सूचना प्रेषित की जा सके। गुफा का निर्माण निम (नेहरू पर्वतारोहण संस्थान) ने जिंदल ग्रुप के सहयोग से किया गया है। अप्रैल में इसका निर्माण शुरू किया गया था। इस पर साढ़े आठ लाख रुपये की लागत आई। 

ऑनलाइन होगी गुफा की बुकिंग 

डीएम मंगेश घिल्डियाल ने बताया कि गुफा के संचालन का जिम्मा गढ़वाल मंडल विकास निगम को सौंपा गया है। इसकी बुकिंग साधना का इच्छुक कोई भी व्यक्ति ऑनलाइन कर सकता है। 

पांच गुफाओं का होना है निर्माण 

डीएम ने बताया कि केदारपुरी में कुल पांच गुफाओं का निर्माण होना है। यह पहली गुफा ट्रायल के तौर पर बनाई गई है। आम लोगों में साधना के प्रति कितना उत्साह है, इससे इसका पता भी लग जाएगा। 

सिर्फ तीन दिन के लिए होगी बुकिंग 

गुफा को एक व्यक्ति अधिकतम तीन दिन के लिए ही बुक करा सकता है। जरूरी होने पर ही बुकिंग की अवधि बढ़ायी जाएगी। गुफा की बुकिंग में कितना खर्च आएगा, यह तय भी गढ़वाल मंडल विकास निगम ही करेगा। 

पहले गुप्तकाशी, फिर केदारनाथ में होगा मेडिकल 

डीएम ने बताया कि गुफा की बुकिंग कराने वाले व्यक्ति का पहले गुप्तकाशी में मेडिकल कराया जाएगा। इसके बाद केदारनाथ में भी मेडिकल होगा। अनफिट पाए जाने पर बुकिंग निरस्त कर दी जाएगी। गुफा में एक समय में एक ही व्यक्ति साधना कर सकेगा। 

यह भी पढ़ें: नए बर्ड वाचिंग डेस्टिनेशन और ट्रैकिंग जोन की है तलाश तो चले आइए यहां

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में इस संस्था की पहल से चहक उठे 52 सूखे जल धारे 

Posted By: Raksha Panthari