संवाद सहयोगी, रुद्रप्रयाग : जिले में 13 दिवसीय युवा कृषि उद्यमी प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू हो गया है। जिसमें चयनित प्रशिक्षणार्थियों को उन्नत कृषि तकनीकी, उद्यान विभाग, पशुपालन सहित कई विभागीय योजनाओं की जानकारी देकर स्वरोजगार के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

पुराने विकास भवन में आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने कहा कि यह प्रशिक्षण स्वरोजगार के लिए बहुपयोगी है। इसमें कृषि विभाग की ओर से चयनित प्रशिक्षणार्थियों को कृषि से संबंधित विभागीय योजनाओं की जानकारी दी जाएगी। ताकि युवा अधिक से अधिक संख्या में प्रतिभाग कर कृषि, पशुपालन, उद्यानीकरण के आधुनिक तरीकों और विभागीय योजनाओं का लाभ उठा सके। कहा कि जनपद में स्वरोजगार की अपार संभावनाएं हैं। पहाड़ में युवा कृषि, उद्यान एवं पशुपालन के जरिए अच्छी आमदनी प्राप्त कर सकते हैं। वहीं कार्यक्रम के पहले दिन जनपद के दो सफल उद्यमियों कपिल शर्मा व राकेश बिष्ट ने अपने विचार व्यक्त किए। बताया कि पहाड़ का युवा रोजगार के लिए महानगर का रुख करता है, किन्तु युवा तकनीकी रूप से दक्ष न होने व कौशल की कमी के कारण शोषण का शिकार हो जाता है। कहा कि हमें कृषि के माध्यम से स्थानीय आर्थिकी को मजबूत करना होगा। इस अवसर पर आरसेटी के निदेशक दिनेश चंद्र नेगी, अग्रणी बैक प्रबंधक एसके वर्मा, मुख्य पशुचिकित्सा अधिकारी रमेश नितवाल, जिला उद्यान अधिकारी योगेंद्र सिंह, कृषि अधिकारी एसएस वर्मा सहित कई विभागीय कर्मचारी एवं प्रशिक्षणार्थी मौजूद थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप