रुद्रप्रयाग, जेएनएन। हिंदुओं के प्रसिद्ध धाम केदारनाथ मंदिर का मुख्य द्वार अब चांदी का होगा। इस द्वार को 52 किलो चांदी से मढ़ा गया है। इस पर आने वाली लागत जालंधर (पंजाब) के एक व्यापारी ने वहन की है। 

श्री बदरी-केदार मंदिर समिति के कार्याधिकारी एनपी जमलोकी ने बताया कि जालंधर के व्यापारी गगन भाष्कर ने पिछले दिनों समिति को इस आशय का प्रस्ताव दिया था। प्रस्ताव की मंजूरी के बाद भाष्कर ने ही इसके लिए कारीगर भेजे। गुरुवार को द्वार पर चांदी मढऩे का कार्य पूरा हो गया है। जमलोकी ने बताया कि द्वार पर ऊं नम: शिवाय, जय केदार और रतनद्वार उकेरा गया है।

इसके अलावा त्रिशूल, डमरू, नंदी और त्रिनेत्र भी बनाए गए हैं। मंदिर का पूर्वी और पश्चिमी द्वार लकड़ी का ही है। जमलोकी ने बताया कि समय-समय पर भक्त मंदिर समिति को इस तरह के दान देते रहे हैं। गर्भ गृह के दरवाजे और अंदर की दीवारों पर मढ़ी गई चांदी भी श्रद्धालुओं ने दान दी थी। 

जालंधर से फोन पर व्यापारी गगन भाष्कर ने बताया कि बाबा केदार में उनकी अगाध आस्था है। पिछले साल उन्होंने मंदिर समिति के पदाधिकारियों से इस बारे में बात की थी। बाद में उन्होंने समिति को इस बारे में बाकायदा प्रस्ताव भेजा। 

यह भी पढ़ें: भैयादूज पर 29 अक्टूबर को बंद होंगे केदारनाथ और यमुनोत्री के कपाट

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस