संवाद सहयोगी, रुद्रप्रयाग: राज्य परियोजना प्रबंधन नमामि गंगे के तत्वावधान में प्रथम चरण में गंगा क्विज का आयोजन किया गया। इसमें जिले में जूनियर एवं सीनियर टीम के कुल 366 छात्र-छात्राओं ने हिस्सा लिया। इस अवसर पर परियोजना प्रबंधक स्वजल एमएस नेगी ने छात्र-छात्राओं के अलावा अभिभावक, शिक्षक, अधिकारी एवं कर्मचारियों को गंगा स्वच्छता की शपथ दिलाई।

रविवार को यहां राजकीय इंटर कालेज के प्रांगण में आयोजित कार्यक्रम में स्वजल के परियोजना प्रबंधक नेगी ने कहा कि हम अपने क्षेत्र के गंगातटीय व अपने आस-पास के स्थानों को साफ-सुथरा रखें। गंगा के अलावा अन्य नदियों में किसी भी प्रकार का कूड़ा-कचरा व पॉलीथन न डालें। कहा कि हम पूरी ईमानदारी व निष्ठा के साथ पॉलीथिन का त्याग करें। गंगा की अविरलता एवं स्वच्छता के लिए हमें गंगा के अलावा किसी भी अन्य नदियों में पूजा की सामग्री तथा केमिकल से बनी मूर्तियां विसर्जित नहीं करनी चाहिए। बल्कि बची हुई पूजा सामग्री तथा कूड़े कचरे से पौधों के लिए खाद तैयार कर प्रयोग करना चाहिए।

इस अवसर पर जूनियर व सीनियर के कुल 366 छात्र-छात्राओं ने गंगा क्विज की लिखित परीक्षा में प्रतिभाग किया। लिखित परीक्षा में 75 वैकल्पिक प्रश्नों की बुकलेट समस्त टीमों को दी गई, जिन्हें पूरा करने के लिए डेढ़ घंटे का समय दिया गया। सभी उत्तर पुस्तिकाएं मूल्यांकन के लिए देहरादून नमामि गंगे प्रोजेक्ट को भेजी जाएंगी। परीक्षा परिणाम 12 सितंबर को प्रदेश स्तर से घोषित किया जाएगा। प्रथम चरण में प्रत्येक जनपद से जूनियर की आठ व सीनियर की आठ टीम राज्य स्तर पर 16 सितंबर को आयोजित होने वाली द्वितीय चरण क्विज में प्रतिभाग करेगी। इस अवसर पर सभी प्रतिभागी बच्चों को प्रमाण-पत्र और पेन के साथ खाद्य सामग्री भी दी गई। इस अवसर पर पर्यावरण विशेषज्ञ पीएस मटूडा, जिला शिक्षाधिकारी माध्यमिक एलएस दानू, डीएचओ योगेंद्र ¨सह, प्रधानाचार्य दिनेश कुमार वाजपेयी आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran