पिथौरागढ़, जेएनएन : नेपाल सीमा को जोड़ने वाली क्वीतड़- जमतड़ी-हल्दू सड़क खस्ताहाल हो गई है। गड्ढों और कीचड़ से पटी सड़क पर आवागमन से हादसे की आशंका बनी हुई है। जनता मिलन कार्यक्रम और समाधान पोर्टल में मामला डाले जाने के बाद भी सड़क की सुध नहीं ली जा रही है। शासन-प्रशासन की उपेक्षा से खिन्न क्षेत्रवासियों ने सड़कों पर उतरने की चेतावनी दी है।

नेपाल सीमा से सटे अंतिम भारतीय गांव हल्दू को सड़क से जोड़ने के लिए वर्ष 2008 में सड़क बनाई गई थी। 12 वर्षों में बेहद संकरी इस सड़क का निर्माण करने के बाद विभाग भूल गया। न तो सड़क की चौड़ाई बढ़ाई गई और नहीं सड़क पर डामर किया गया। सड़क में जगह-जगह गड्ढे बने हुए हैं। पूरी सड़क कीचड़ से पटी हुई है। मजबूर वाहन चालक इसी स्थिति में वाहन चलाने को मजबूर हैं। यात्रियों को जान हथेली पर रखकर आवागमन करना पड़ रहा है। पांच हजार से अधिक की आबादी वाले इस क्षेत्र के लोग सड़क सुधारीकरण के लिए कई बार प्रशासन से मांग कर चुके हैं। सामाजिक कार्यकर्ता नरेंद्र चंद ने बताया कि जनता मिलन कार्यक्रम के साथ ही समाधान पोर्टल में भी शिकायत दर्ज कराई जा चुकी है, लेकिन अभी तक सड़क सुधारीकरण के लिए पहल नहीं हुई है। क्षेत्रवासियों ने कहा है कि जल्द ही सड़क की हालत नहीं सुधारी गई तो वे आंदोलन को मजबूर होंगे। इधर लोनिवि का कहना है कि सड़क के डामरीकरण का प्रस्ताव बनाया गया है। स्वीकृति मिलते ही सड़क पर डामर बिछाया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस