मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

संवाद सूत्र, थल: तीन दिवसीय पौराणिक थल मेले का रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ समापन हुआ। अंतिम शाम अल्मोड़ा के लोक कलाकारों के नाम रही। कलाकारों ने देर रात तक अपनी शानदार प्रस्तुतियों से श्रोताओं को बांधे रखा।

अल्मोड़ा से प्रकाश बिष्ट के नेतृत्व में आए कलाकारों ने छपेली, न्यौली, चांचरी, झोड़े की शानदार प्रस्तुति दी। नेपाली, जौनसारी और गढ़वाली लोक गीतों के बीच दर्शक को खूद को झूमने से नहीं रोक पाए। देर रात गोविंद डिगारी ने मंच संभाला, उन्होंने अपने लोकप्रिय गीत लटी-पटी में थामुलो गीत सुनाकर सांस्कृतिक संध्या में रंग भरा तो प्रह्लाद मेहरा ने गोपुलि त्वेक अपन मुलक लिजोल.. सुनाकर दर्शकों में उत्साह भरा। दीपा नगरकोटी ने धुरा, डाना बुरेशी फूलि गे.. गीत पर दर्शकों को झूमने के लिए विवश कर दिया। बिन्नी महर, महिपाल मेहता, सागर कुमार ने एक से बढ़कर एक लोकगीतों की प्रस्तुति देकर दर्शकों को देर रात तक बांधे रखा। कन्या इंटर कॉलेज की छात्राओं ने शानदार प्रस्तुति दी। मयूर नृत्य लोगों ने खासा पसंद किया। अंतिम दिन के कार्यक्रम की शुरू आत मुख्य अतिथि गंगा सिंह मेहता, विशिष्ट अतिथि डॉ. आशा जोशी ने की। इस अवसर पर चांदनी इंटरप्राइजेज के निर्माता नवीन टोलिया, जिला पंचायत सदस्य सपना सत्याल, अवर अभियंता मुकेश सिंह, जगजीवन कन्याल, गिरिजा शंकर जोशी, हरीश चुफाल, चंदन कोश्यारी सहित तमाम लोग मौजूद थे। रात दो बजे मेले का विधिवत समापन हुआ। मेला समिति के अध्यक्ष देवराज सत्याल, व्यवस्थापक दिनेश चंद्र पाठक, सचिव अर्जुन सिंह रावत, कोषाध्यक्ष प्रवीण जंगपांगी, सुनीत सत्याल ने आयोजन में सहयोग के लिए आभार जताया। संचालन कृष्ण गोपाल पंत, नरेश जोशी और हिमाद्री बृजवाल ने किया। ======= प्रतियोगिता के विजेताओं को मिला पुरस्कार थल: मेले के समापन से पूर्व तीन दिनों में आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेताओं को पुरस्कृत किया गया। सामान्य ज्ञान जूनियर वर्ग मे अनुश्रेया, ओपन वर्ग में जीवन जोशी, सुलेख जूनियर वर्ग में मान्यता जोशी, सीनियर वर्ग में मयंक चंद, मेंहदी रचाओ जूनियर वर्ग में दिया सत्याल, देवेश्वरी, सीनियर वर्ग में नीमा बोरा, बेबी शो में काव्या कठायत, कुर्सी दौड़ आस्था, महिला वर्ग में दुर्गा धानिक अव्वल रही। ======= थल की बाजार.. पर जमकर थिरके मेलार्थी थल: यू ट्यूब पर धमाल मचाने वाले गीत लाल चुनरी कर्ती ओ तेरी, थल की बाजार.. गीत समापन का मुख्य आकर्षण रहा। मुम्बई में फिल्म प्रोडक्शन से जुड़े बीके सामंत ने तीन माह पूर्व इस गीत को यू ट्यूब पर अपलोड किया था। 60 लाख लोग अब तक इस गीत को पसंद कर चुके हैं। सामंत समापन अवसर पर मुम्बई से थल पहुंचे उन्होंने गीत की प्रस्तुति दी। उपस्थित जनसमुदाय गीत पर झूम उठा। लोगों ने गीत की खूब सराहना की।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप