संवाद सहयोगी, पिथौरागढ़: एलएसएम पीजी कॉलेज में स्नातक द्वितीय सेमेस्टर के छात्र-छात्राओं को प्रमोट नहीं किए जाने से गुस्साए एनएसयूआइ कार्यकर्ताओं ने विश्वविद्यालय प्रशासन व कुलपति का पुतला दहन कर आक्रोश प्रकट किया। कार्यकर्ताओं ने शीघ्र द्वितीय सेमेस्टर के छात्र-छात्राओं को प्रमोट नहीं किए जाने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है।

बुधवार को एनएसयूआइ जिलाध्यक्ष ऋषभ कल्पासी के नेतृत्व में एकत्र कार्यकर्ताओं ने विश्वविद्यालय प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और प्रदर्शन किया। कार्यकर्ताओं ने कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा आगामी 23 सितंबर से स्नातक द्वितीय सेमेस्टर की परीक्षाएं प्रस्तावित की गई हैं, मगर दूसरी ओर आगामी माह में कोरोना की तीसरी लहर की आशंका जताई जा रही है। ऐसे में परीक्षाएं कराना छात्र-छात्राओं के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करना है। विधानसभा अध्यक्ष दीपक सौन व कॉलेज उपाध्यक्ष सौरभ राज ने कहा कि द्वितीय सेमेस्टर के अधिकांश विद्यार्थियों की उम्र 18 वर्ष से अधिक न होने के कारण उनका टीकाकरण भी संभव नहीं है और ऑफलाइन कक्षाएं संचालित नहीं होने से विद्यार्थी परीक्षाओं की तैयारी भी ठीक से नहीं कर पाए हैं। उन्होंने कहा कि यदि शीघ्र द्वितीय सेमेस्टर के छात्र-छात्राओं को प्रमोट कर अगली कक्षा में प्रवेश नहीं दिया गया तो संगठन सड़कों पर उतरने को बाध्य होगा। प्रदर्शन करने वालों में शिवम पंत, हिमांशु कुंवर, कपिल बोरा, शुभम कुंवर, वैभव त्रिपाठी, लवेश कल्पासी, करन पुनेठा, चंद्रा आदि मौजूद रहे। ====== द्वितीय सेमेस्टर के छात्रों को प्रोन्नत करने की मांग को लेकर महाविद्यालय में हुआ प्रदर्शन

पिथौरागढ़: एसएसजे विश्वविद्यालय अल्मोड़ा के स्नातक द्वितीय वर्ष के छात्रों को प्रोन्नत किए जाने की मांग को लेकर पिथौरागढ़ महाविद्यालय के छात्रों ने बुधवार को प्रदर्शन किया। छात्रों ने विश्वविद्यालय प्रशासन का पुतला फूंका।

छात्रसंघ अध्यक्ष चंद्रमोहन पांडेय की अगुवाई में प्रदर्शन करते हुए छात्रों ने कहा कि विश्वविद्यालय ने 23 सितंबर से स्नातक द्वितीय सेमेस्टर की परीक्षाएं घोषित कर दी हैं। छात्रों ने कहा कि द्वितीय सेमेस्टर के कई छात्र-छात्राओं की आयु 18 वर्ष से कम है, जिन्हें अब तक टीका नहीं लग सका है। कोरोना की तीसरी लहर की पूरी आशंका अभी बनी हुई है। इसे देखते हुए कुमाऊं विश्वविद्यालय नैनीताल ने द्वितीय और चतुर्थ सेमेस्टर के छात्रों को प्रोन्नत कर दिया है।

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि विश्वविद्यालय में अभी तक कोर्स पूरा नहीं हुआ है। विज्ञान संकाय के छात्रों की प्रयोगात्मक कक्षाएं नहीं चलाई गई हैं। केवल ऑनलाइन माध्यम से असाइनमेंट जमा कराए गए हैं। छात्र परीक्षा देने के पक्ष में नहीं हैं। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि द्वितीय वर्ष के छात्रों को प्रोन्नत नहीं किया गया तो विश्वविद्यालय के खिलाफ उग्र आंदोलन किया जाएगा। प्रदर्शन के बाद प्राचार्य के माध्यम से कुलपति को ज्ञापन प्रेषित किया गया। प्रदर्शन करने वालों में सावन चंद, यश, संजय अवस्थी, अनिल धामी, अमन रावल, गौरव कापड़ी, भरत कुमार, दीक्षा खनका, करिश्मा, रोशनी आदि शामिल थे।

Edited By: Jagran