संवाद सूत्र, गंगोलीहाट : विगत वर्ष की भांति इस वर्ष भी होली पर्व पर समाजसेविका स्व. मुन्नी बिष्ट की स्मृति में होली मिलन प्रतियोगिता का आयोजन हुआ। जिसमें विभिन्न क्षेत्रों से आए पुरु ष व महिला दलों ने शानदार होली गायन किया। जिसमें उत्कृष्ट प्रदर्शन के आधार पर पुरु ष वर्ग में गुमानी होली उप्राड़ा व महिला वर्ग में सांस्कृतिक महिला दल हाट ने प्रथम स्थान हासिल किया।

स्थानीय ब्यालपाटा मैदान पर आयोजित प्रतियोगिता का शुभारंभ मुख्य अतिथि पूर्व दर्जा राज्यमंत्री खजान गुड्डू, विशिष्ट अतिथि पदम्श्री पुरस्कार प्राप्तकर्ता शेखर पाठक, प्रो. उमा भट्ट, राजेंद्र पाठक, पूर्व प्रधान शंकर लाल चौधरी, मुकेश रावल, गिरीश पाठक, मोहन चंद्र पंत, मोहन बोरा, ठाकुर सिंह बिष्ट ने संयुक्त रू प से किया। पुरुष वर्ग होली गायन में गुमानी होली उत्थान समिति उप्राड़ा ने प्रथम, होली समिति फुटसिल ने द्वितीय हाट कला एवं सांस्कृतिक मंच ने तृतीय स्थान हासिल किया। महिला वर्ग में हाट कला एवं सांस्कृतिक मंच ने प्रथम, महिला होली समिति सुनार गांव ने द्वितीय होली समिति फुटसिल ने तृतीय स्थान हासिल किया। महाकाली होली समिति को सांत्वना पुरस्कार दिया गया। प्रतियोगिता में निर्णायक श्यामाचरण उप्रेती व शेखर चंद्र पंत रहे। संचालन शिक्षक विजय खत्री ने किया। प्रतियोगिता के सफल आयोजन के लिए स्व. मुन्नी बिष्ट के पुत्र राजेंद्र सिंह बिष्ट, धीरेंद्र सिंह बिष्ट, विनय बिष्ट, मनीष बिष्ट ने सभी का आभार प्रकट किया।

पिथौरागढ़: होली अष्टमी के साथ ही नगर में महिलाओं की बैठकी होली की भी धूम मची है। नगर के जीआइसी रोड स्थित गौरा आवास में महिला होली का आयोजन किया गया। जिसमें महिलाओं ने होली गायन के साथ ही स्वांग भी किए। वहीं, बैंक रोड में पूर्व विधायक गोपाल दत्त ओझा के आवास में भी महिला होली गायन का आयोजन हुआ। जिसमें महिलाओं ने हरि धरै मुकुट खेले होली.., होली प्यारी प्यारी.. आदि का गायन कर जमकर होली खेली। इस मौके पर कमला ओझा, दीक्षा ओझा, सरिता पंत, उमा चिल्कोटी, विमला पंत, दीपा पंत, मुन्नी चिल्कोटी, गीता, मंजुला, मोनिका, पार्वती, हेमा, मंजू आदि शामिल रहे।

---

होली एकादशी आज, दस बजे बाद पड़ेगा रंग

पिथौरागढ़: रंगों का त्योहार होली पर्व खुशियों का त्योहार है। विभिन्न रंगों के साथ होली पर्व को धूमधाम से मनाया जाता है। मान्यताओं के अनुसार होली के विभिन्न रंगों में रंगने से मनुष्य के दु:ख दूर हो जाते हैं। इस पर्व में भद्राकाल का विशेष ध्यान रखा जाता है। बुधवार (आज) एकादशी तिथि से गांव-गांव में चीर बंधन के साथ खड़ी होली शुरू हो जाएगी। एकादशी के दिन ही शुभ मुर्हुत पर रंग भी पड़ेगा।

गंगोलीहाट के जाड़ापानी निवासी गायत्री ज्योतिष केंद्र के संचालक प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य पं. अनिल कोठारी ने बताया कि इस वर्ष होली का त्योहार 28 व 29 मार्च को मनाया जाएगा। चीरबंधन/ध्वजारोहण व रंग 24 मार्च बुधवार को एकादशी तिथि से प्रात: दस बजकर 20 मिनट से प्रारंभ होगा। 28 मार्च को होलिका दहन व अगले दिन फाल्गुन कृष्ण पक्ष प्रतिप्रदा 29 मार्च सोमवार को होली (छलड़ी) मनाई जाएगी। उन्होंने बताया कि इस वर्ष भद्राकाल 28 मार्च को दोपहर दो बजे से पूर्व ही समाप्त हो जाएगा और होलिका दहन का मुहुर्त सांय छह बजकर 36 मिनट से 8 बजकर 55 मिनट के मध्य रहेगा।

Edited By: Jagran