पिथौरागढ़। कैलास मानसरोवर यात्रा में जाने वाले यात्रियों के स्वास्थ्य को लेकर सरकार बेहद संजीदा है। चिकित्सकों के साथ ही यात्रा के दौरान पशुपालन विभाग का पूरा लाव-लश्कर भी उच्च हिमालयी क्षेत्र में मौजूद रहेगा। जानवरों से यात्रियों में कोई बीमारी न फैले इसके लिए हर जानवर का टीकाकरण किया जाएगा।

पढ़ें:-गंगा का अहम जल स्रोत डुकरानी ग्लेशियर खतरे में, पिघलने की दर 14 फीसद बढ़ी
12 जून को कैलास मानसरोवर यात्रियों का पहला दल देहरादून से रवाना होगा। 13 जून को यात्री सिर्खा गांव से अपनी पैदल यात्रा शुरू करेंगे। 15 जून को यात्री उच्च हिमालयी क्षेत्र में कदम रखेंगे। इस समय स्थानीय लोग उच्च हिमालयी क्षेत्रों में स्थित अपने गांवों में प्रवास पर हैं। इन लोगों का मुख्य व्यवसाय भेड़ और बकरी पालन है। इन जानवरों के साथ ही यात्रियों को ले जाने वाले घोड़े-खच्चरों से भी बीमारी की आशंका रहती है। इनमें कुछ बीमारियां बेहद खतरनाक हैं। इसे देखते हुए पशुपालन विभाग यात्रा के दौरान उच्च हिमालयी क्षेत्र के पशुओं में टीकाकरण करने का निर्णय लिया है।

पढ़ें:-कैलास मानसरोवर यात्रियों की सुरक्षा अब महिला जवानों के हाथ

उप मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ. पंकज जोशी ने बताया कि पशुपालन विभाग की पहली टीम उच्च हिमालयी क्षेत्रों में पहुंच चुकी है, जो टीकाकरण का कार्य करेगी। यात्रा शुरू होने के साथ विभाग की स्थायी टीम क्षेत्र में तैनात रहेगी जो यात्रा खत्म होने तक क्षेत्र में बनी रहेगी और पशुओं पर पूरी निगाह रखेगी।

पढ़ें- केदारनाथ यात्रा के लिए समय में ढील, ज्यादा लोग कर सकेंगे दर्शन

Posted By: sunil negi