संवाद सहयोगी, पिथौरागढ़: जिला मुख्यालय के कर्मचारियों ने 12 सूत्रीय मांगों को लेकर शुक्रवार को जिला कार्यालय के समीप प्रदर्शन कर धरना दिया। मांगों पर शीघ्र कार्रवाई नहीं किए जाने पर कर्मचारियों ने उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है।

उत्तराखंड कार्मिक शिक्षक आउटसोर्स संयुक्त मोर्चा के बैनर तले टकाना रामलीला मैदान में एकत्र हुए कर्मचारियों ने जोरदार प्रदर्शन कर धरना दिया। धरना स्थल पर हुई सभा में वक्ताओं ने कहा कि वेतन विसंगति, पदोन्नति, सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों का लाभ, एरियर का भुगतान करने, 52 वर्ष से अधिक उम्र के पुरुष और 50 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं को स्थानांतरण एक्ट से मुक्त रखने, संविदा, आउटसोर्स, उपनल और दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों को नियमित करने जैसी तमाम मांगें लंबे समय से उठाई जा रही हैं, लेकिन सरकार इन मांगों के प्रति उदासीन बनी हुई है। कर्मचारियों को मजबूर होकर आंदोलन के लिए बाध्य होना पड़ा है। वक्ताओं ने कहा कि सरकार इसी तरह उदासीन बनी रही तो कर्मचारी आंदोलन को उग्र करने को बाध्य होंगे। धरने का नेतृत्व मुख्य संयोजक केसी पंत, संयोजक सचिव प्रदीप भट्ट, संयोजक सचिव उम्मेद सिंह बिष्ट ने किया। धरना समाप्ति के बाद 12 सूत्रीय मांगों से संबंधित ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से प्रदेश के मुख्यमंत्री को प्रेषित किया गया।

Posted By: Jagran