जासं, पिथौरागढ़: जिलाधिकारी आनंद स्वरू प ने विकास खंड विण के ग्राम प्रधानों के साथ वर्चुअल बैठक करते हुए गांवों को कोरोना संक्रमण से बचाने को कहा। कोविड रोकथाम के लिए 14वें वित्त्त से बीस हजार रु पये की धनराशि स्वीकृति की जानकारी दी गई।

प्रधानों से बैठक करते हुए डीएम ने कहा कि प्रशासन के स्तर पर जो जिम्मेदारी उनकी है वही जिम्मेदारी गांवों में ग्राम प्रधानों की है। उन्होंने प्रधानों से कहा कि वह क्षेत्र में कार्यरत पटवारी, ग्राम विकास व ग्राम पंचायत अधिकारी, एएनएम, आशा व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के साथ मिल कर गांव को कोरोना संक्रमण से बचाएं। बाहर से आने वाले प्रत्येक व्यक्ति प्रवासी को पंचायत घर व स्कूल में 14 दिनों तक क्वारंटाइन कराएं। साथ में कोविड नियमों का पालन कराने को कहा गया। किसी व्यक्ति में कोरोना के लक्षण पाए जाने पर उसे चिकित्सक को दिखाने के साथ सैंपलिंग कराएं।

जिलाधिकारी ने बताया कि गांव में कोविड संक्रमण की रोकथाम के लिए प्रत्येक ग्राम पंचायत को बीस हजार रुपये की धनराशि 14वें वित्त से व्यय करने की स्वीकृति प्रदान कर दी है। इस मौके पर प्रधानों ने भी कोरोना संक्रमण की रोकथाम के सुझाव दिए। डीएम ने कहा कि गांव में बाहर से आने वाले की सूचना उसी दिन दिया जाना आवश्यक है। इस मौके पर 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का टीकाकरण कराने और 18 से 44 वर्ष वालों का टीकाकरण के लिए पंजीकरण करने के लिए कहा गया। वर्चुअल बैठक में सीडीओ अनुराधा पाल, एडीएम आरडी पालीवाल, डीपीआरओ हरीश आर्य सहित अन्य अधिकारी और अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।