जाटी, पिथौरागढ़/मुनस्यारी/धारचूला : चीन सीमा को जोड़ने वाला तवाघाट- सोबला-तिदांग मोटर मार्ग 55 वें दिन भी बंद रहा। तवाघाट-घटियाबगड़-लिपुलेख मार्ग भी यातायात के लिए बंद है। थल-मुनस्यारी मार्ग पांचवें दिन गिरगांव के पास खोल दिया गया है और फंसे वाहन निकल चुके हैं। वनिक और गिरगांव के पास खतरा बना हुआ है। दुम्मर मार्ग बंद होने से छात्र-छात्राएं विद्यालय तक नहीं पहुंच पा रहे हैं। सरमोली गांव में आंगन की दीवार गिरने से मकान खतरे में आ गया है।

धारचूला से मिली जानकारी के अनुसार दारमा मार्ग अभी तक नहीं खुला है। जिससे तल्ला मल्ला दारमा और चौदास का संपर्क 55 दिनों से भंग है। दिल्ल दर्मा सेवा समिति ने एसडीएम एके शुक्ला को भेंट कर क्षेत्र की समस्याओं से अवगत कराते हुए मार्ग खोलने की मांग की है। समिति ने कहा है कि मार्ग बंद होने से दारमा में खाद्यान्न सेवा प्रभावित हो चुकी है। खाद्य विभाग ने छह माह का राशन तो उपलब्ध कराया है, परंतु अधिक सदस्य संख्या वाले परिवारों के पास राशन की कमी होने लगी है। मार्ग बंद है स्थानीय स्तर पर राशन की दुकानें नहीं हैं।

समिति ने कहा है कि दारमा के लिए हेलीकॉप्टर सेवा तो की है, परंतु मौसम के अधिकांश खराब रहने से सेवा बाधित रहती है। जल्द मार्ग खुलने पर ही ग्रामीणों को सुविधा मिल सकेगी। क्षेत्र के लोग स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से जूझ रहे हैं क्षेत्र के स्वास्थ्य केंद्र में कोई कर्मचारी नहीं हैं। बीमार पड़ने पर उपचार तक संभव नहीं है। प्राथमिक चिकित्सा नहीं मिलने से 45 दिनों में तीन लोगों की मौत हो चुकी है । जिसे देखते हुए मानसून काल में दारमा में चिकित्सा कर्मियों की तैनाती की मांग की गई है। मार्ग बंद होने से ग्रामीण वैक्सीनेशन के लिए धारचूला नहीं आ पा रहे हैं। प्रशासन से दारमा चिकित्सा कर्मी तैनात करने की मांग की है।

मुनस्यारी से मिली जानकारी के अनुसार सोमवार रात की भारी बारिश से सरमोली ग्राम पंचायत में बाला राम के मकान का आंगन टूटने से मकान खतरे में आ चुका है। परिवार के लोग परेशान हैं। क्षेत्र में हो रही रात की बारिश से खतरा बना हुआ है। प्रभावित परिवार ने प्रशासन से परिवार की सुरक्षा की गुहार लगाई है।

Edited By: Jagran